×

सुंदरनगरः ताम्रकूट पर्वत के नीचे बनी गुफा से स्नान के लिए हरिद्वार जाते थे शुकदेव ऋषि

सुंदरनगरः ताम्रकूट पर्वत के नीचे बनी गुफा से स्नान के लिए हरिद्वार जाते थे शुकदेव ऋषि

- Advertisement -

सुंदरनगर। देव भूमि हिमाचल में कई मंदिर ऐसे हैं जिनका कोई ने कोई ऐतिहासिक महत्व है। इनमें से एक है छोटी काशी मंडी के सुंदरनगर( Sundernagar) में बसे शुकदेव ऋषि की गुफा। सुंदरनगर के ताम्रकूट पर्वत के नीचे स्थित इस पर्वत गुफा के ऊपर भीम के पंजे का निशान और नीचे दो जल स्त्रोत हैं। इन में से एक को गंगा और दूसरी को यमुना कहा जाता हैं। मान्यता के अनुसार शुकदेव ऋषि इसी स्थान पर तपस्या करते थे और गुफाओं से शुकदेव ऋषि स्नान करने के लिए हरिद्वार आया-जाया करते थे। तपस्या में समय की कमी के कारण शुकदेव ऋषि ने दो जल स्त्रोत गुफा के समीप उत्पन्न किए। इसमें से एक गंगा और दूसरी यमुना कहा जाता है।


इसी जल से शुकदेव ऋषि स्नान कर इस गुफा में वेदों का अध्यन किया करते थे। इसके उपरांत रियासकाल में इसका नाम सुंदरनगर के नाम से जाना जाता है। प्राचीनकाल से ही इस प्रांत का नाम शुकक्षेत्र चला आया है। शुकदेव ऋषि से अनेक ऋषि मुनि वेद पुराण आदि का ज्ञान प्राप्त करने उनके आश्रम में आते थे। उन्होंने अपना स्थान शुकदेव आश्रम से आग्नेय दिशा की ओर बना लिया। इसे पौराणिक नगर से जाना जाता था। आज उसे पुराना बाजार कहते हैं। उनके एक प्रिय शिष्य हुए जिनका नाम भोज था और शुकदेव ऋषि के आश्रम से दक्षिण दिशा में उन्हें स्थान दिया। इसका नाम सुंदरनगर के प्रमुख बाजार भोजपुर प्रसिद्ध हुआ। वर्तमान में भी यहां का नाम भोजपुर ही है। कहते हैं कि शुकदेव अनेक ऋषि-मुनियों के साथ नक्षत्रों व अनेक पुराणों के ऊपर ऋषि मुनियों के सम्मेलन किया करते थे। जिस स्थान पर यह चर्चा होती थी, उसका नाम ओड़की पड़ा।

देव समाज सुकेत के शोधकर्ता आचार्य रोशन लाल व गुफा की रखवाली करने वाले सुखदेव गिरी बाबा ने बताया कि इस गुफा के नाम से सुंदरनगर का नाम सुकेत पड़ा है उन्होंने कहा कि इस गुफा से होते हुए सुखदेव ऋषि स्नान करने के लिए हरिद्वार जाया करते थे। उन्होंने यहाँ पर लंबे समय तक तप किया था शुकदेव ऋषि की गुफा के साथ दो जल स्त्रोत है जिन्हें गंगा और यमुना कहा जाता है त्योहारों के मौके पर लोग यहां पर स्नान करने के लिए आते है।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है