Covid-19 Update

59,118
मामले (हिमाचल)
57,507
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,228,288
मामले (भारत)
117,215,435
मामले (दुनिया)

जिन्हें समझा मरा हुआ, 47 साल बाद मिले वो भाई-बहन, धुंधली आंखों में छलके आंसू

जिन्हें समझा मरा हुआ, 47 साल बाद मिले वो भाई-बहन, धुंधली आंखों में छलके आंसू

- Advertisement -

किसी भी देश के आतंरिक युद्ध अपने साथ बहुत सारा विनाश भी लेकर आते हैं। कई लोगों की जानें जाती हैं कई बेघर हो जाते हैं और कई परिवार से हमेशा के लिए दूर हो जाते हैं। ऐसे ही तीन भाई-बहन 47 साल बाद मिले तो उनकी धुंधली आंखों में आंसू छलक आए।

यह भी पढ़ें: Video : बाहुबली बने Trump, बोले – भारत में दोस्तों से मिलने के लिए बेकरार हूं

ये मामला है कंबोडिया (Cambodia) का जहां 47 साल बाद तीन भाई-बहन मिले। इन तीनों को लगता था कि इनमें से किसी एक का निधन हो गया होगा। इन्होंने एक दूसरे से आखिरी बार मुलाकात साल 1973 यानी कंबोडिया में कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party) यानी खमेर रूज का शासन आने के दो साल पहले हुई थी। कंबोडिया में कम्यूनिस्ट पार्टी साल 1975 में सत्ता में आई और इसके बाद करीब दो साल तक चले संघर्ष में कम से कम 20 लाख लोग मारे गए। यह संघर्ष साल 1979 तक चला। 2004 में इन्हें मिलाने के लिए स्थानीय एनजीओ चिल्ड्रन्स फंड ने पहल की। एनजीओ को बन का भाई, बड़ी बहन एक गांव में मिले, जिसके बाद हाल ही में इन तीनों की मुलाकात करवाई गई।

पोल पॉट के शासन में बन के पति का देहांत हो गया। वह लंबे समय तक कचरा बीन कर पेट पालती रही और पड़ोसियों के बच्चों की देखभाल भी की। बन ने बताया कि उसने अपना गांव छोड़ दिया था। कभी पलट कर वापस नहीं देखा। उसे लगा था कि उसके भाई-बहन मर गए। बन ने कहा कि वह अपने भाई-बहन से मिल कर खुश हैं। गौर हो कि तानाशाह पोल पॉट और उसकी सेना ने साल 1975 में कंबोडिया की सत्ता पर कब्जा किया था। इसके बाद साल 1976 में नई कम्यूनिस्ट सरकार के पीएम पोल बने। इस कार्यकाल को खमेर रूज के नाम से जाना जाता है। कंबोडिया में खमेर की सरकार चार साल तक चली। इस दौरान वहां हत्याओं का जो दौर चला जिसे 20वीं सदी के सबसे बड़े नरसंहारों में से एक माना जाता है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है