Expand

सावधान! कहीं आप सीटिंग डिजीज के शिकार तो नहीं

जो लोग खड़े रहने के बजाय ज्‍यादा बैठना पसंद करते हैं वो कम जीते हैं

सावधान! कहीं आप सीटिंग डिजीज के शिकार तो नहीं

अगर आप हर काम बैठकर करना चाहते हैं और एक जगह पर देर तक बैठे रहते हैं तो सावधान हो जाएं यह आप के लिए खतरनाक हो सकता है। एक रिसर्च में सामने आया है कि जरुरत से ज्‍यादा बैठे रहना स्वास्थ्य के ल‍िए हान‍िकारक साबित हो सकता है। इतना ही नहीं रिसर्च में साबित हुआ है कि जो लोग खड़े रहने के बजाय ज्‍यादा बैठना पसंद करते हैं वो कम जीते हैं। अपनी दिनचर्या पर नजर दौड़ाएं और देखें कि कहीं आप हर काम बैठकर करना पसंद तो नहीं करते। अगर ऐसा है तो आप सिटिंग डिजीज के शिकार हो चुके हैं। अब आप को अपनी यह आदत बदलने की सख्त जरूरत है।

ज्‍यादा देर तक बैठने के नुकसान

लम्बे समय तक एक ही जगह पर बैठे रहने से शरीर में खून के थक्के बन सकते हैं। इस रक्त के दिमाग तक पहुंचने से यह स्ट्रोक का कारण बन सकता है। मोटापा और कोलोन कैंसर की समस्‍या हो सकती है। मांसपेशियों की रक्त वाहिनियों में मौजूद एंजाइम चर्बी के कम या बंद होने के लिए जिम्मेदार होते हैं, जिससे शरीर के चयापचय संबंधी ईंधन यानी ऊर्जा में दिक्कत पैदा होती है।
पूरे दिन एक जगह पर बैठे रहने से टांगों में इकट्ठा हुआ तरल गर्दन तक पहुंच जाता है। जिसकी वजह नींद में सांस का रुकने की बीमारी हो सकती है। लगातार बैठे रहने से रीढ़ की हड्डी पर काफी दबाव पड़ता है। दबाव की वजह से मांसपेशियां कठोर हो जाती हैं। ऐसे में रीढ़ की हड्डी के मानकों पर संकुचन पैदा होती है और एकदम से खड़े होने पर यह चोट का कारण बन सकती हैं।

इसे लिए क्या करें

आप रोजाना 10 मिनट का एक लक्ष्‍य बना लें और स्‍ट्रेचिंग करें। इससे आपके पूरे शरीर में गतिविधि होगी और ये मसल्‍स को क्रेम्पिंग से बचाता है। द‍िन में पांच से छह बार ये एक्‍सरसाइज करने से आपका शरीर सीटिंग डिजीज से पूरी तरह लड़ता है। लंच के बाद आप गपशप की जगह वॉक पर जा सकते हैं। मिड-ब्रेक के दौरान आप एल‍िवेटर की जगह सीढि़यों से ऊपर और नीचे जा सकते हैं। बैठे रहने की तुलना में कुछ देर खड़े होना भी आपके मसल्‍स को कम करने के साथ कैलोरी बर्न करने में मदद करता है।

  • खड़े होकर अपने बांहों को और अंगुलियों को स्‍ट्रेच कर सकते हैं।
  • कुर्सी पर बैठे- बैठे अपनी गर्दन व पैरों को हिलाते रहें।
  • काम करने के दौरान थोड़ी देर इधर उधर जरूर टहलें।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Advertisement
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Advertisement

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है