Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

बादशाह जो एक दिन में खा जाता था पूरे 35 किलो खाना, यहां पढ़े- ये रोचक कहानी

गुजरात के छठे सुल्तान महमूद बेगड़ा को खाने का शौक था

बादशाह जो एक दिन में खा जाता था पूरे 35 किलो खाना, यहां पढ़े- ये रोचक कहानी

- Advertisement -

हमारी इस धरती पर बहुत सारे लोग ऐसे हैं जिनको दो वक्त का खाना भी मुश्किल से मिल पाता है और कुछ लोगों को पास जरूरत से ज्यादा है। दो वक्त की रोटी के लिए इनसान दिन रात मेहनत करता है। वैसे अगर सोचा जाए तो एक आदमी एक दिन में कितना खा सकता है। 2, 4, 10 किलो! आज के दौर में तो लोग अपने खान-पान को लेकर कुछ ज्यादा ध्यान देने लगे हैं। चलिए आप को एक ऐसे राजा के बारे में बताते हैं जो 1 दिन में 2- 4 नहीं बल्कि पूरे 35 किलो खाना खा जाते थे। यकीन नहीं आ रहा ना लेकिन ये एक दम सही है। इतना ही नहीं यह राजा ये सब खाने बाद यह बादशाह जहर भी लेता था।

यह भी पढ़ें:चमत्कार! एमपी के इस झरने में नहाने के बाद सलामत रहती हैं जोड़ियां

तो बताते है इन का नाम ….. ये बादशाह कोई और नहीं गुजरात के छठे सुल्तान महमूद बेगड़ा थे। सुल्तान बेगड़ा एक पराक्रमी योद्धा थे। वे 13 साल की उम्र में वे बादशाह बने और 53 साल तक उन्होंने शासन किया। सुल्तान महमूद बेगड़ा का व्यक्तित्व आकर्षक था, उनकी दाढ़ी-मूंछे भी काफी लंबी थी। उनके शरीर के हिसाब से उन्हें भोजन की जरूरत पड़ती थी और इसलिए उनकी खुराक काफी ज्यादा थी। बहादुर बादशाह बेगड़ा खान-पान के लिए खासे चर्चित थे। उनके खाने से जुड़े कई किस्से मशहूर है। वे सुबह के नाश्ते में एक कटोरा शहद, एक कटोरा मक्खन और 100-150 तक केले आराम से खा जाते थे। दोपहर में भरपेट भोजन के बाद उन्हें मीठा खाने का शौक था। हर रोज मीठे में वे 4.6 किलो मीठे चावल खा जाते थे। दिनभर खाने के बाद और फिर रात में भरपेट भोजन के बाद भी उनका मन नहीं भरता था। रात को अगर उनका कुछ खाने का मन करे तो इसके लिए व्यवस्था रहती थी। इसके लिए उनके बेड के पास उनके तकिये के दोनों ओर गोश्त के समोसों से सजी तश्तरियां रखी जाती थीं। यूरोपीय इतिहासकार वर्थेमा और बारबोस के अनुसार सुल्तान को एक बार जहर देने की कोशिश की गई थी. उसके बाद से सुल्तान को रोज थोड़ी मात्रा में जहर दिया जाने लगा ताकि उनका शरीर और इम्यून सिस्टम जहर का आदी हो जाए। ऐसा इसलिए ताकि कोई उन्हें जहर देकर मारने की कोशिश करे तो उनके शरीर पर उसका असर ही न हो।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है