Covid-19 Update

2,06,832
मामले (हिमाचल)
2,01,773
मरीज ठीक हुए
3,511
मौत
31,810,427
मामले (भारत)
200,650,253
मामले (दुनिया)
×

जातीय भेदभाव मामला : दोषी शिक्षिक सहित मिड-डे मील वर्कर्स हो गिरफ्तार

जातीय भेदभाव मामला : दोषी शिक्षिक सहित मिड-डे मील वर्कर्स हो गिरफ्तार

- Advertisement -

मंडी। बाली चौकी के नौणा स्कूल में हुए जातीय भेदभाव मामले को लेकर कई सामाजिक संगठनों (Social organizations) ने मिलकर आवाज उठाई है। मानवाधिकार संगठन सदस्य हिमाचल प्रदेश एवं जिलाध्यक्ष कोली सभा जिला मंडी एलआर चौहान, अनुसूचित जाति जनजाति वर्ग विशाल सुधार सभा के जिला अध्यक्ष सिद्धू राम भारद्वाज, कोली सभा जिला मंडी के मुख्य सलाहकार कमल देव चौहान सहित मानवाधिकार संगठन के अन्य सदस्यों का प्रतिनिधिमंडल डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर से मिला। प्रतिनिधिमंडल ने उनके माध्यम पीएम नरेंद्र मोदी, राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय और सीएम जयराम ठाकुर को ज्ञापन भेजा। संगठन के समस्त पदाधिकारी सहित पीड़ित पक्ष ने डीसी से दोषियों को तुरंत गिरफ्तार करने के लिए मांग की।

mandi

संगठन के सदस्यों ने कहा कि सरकार व शिक्षा विभाग द्वारा प्रत्येक सरकारी स्कूलों में मिड-डे मील के दौरान हो रहे भेदभाव को रोकने संबंधी जागरूकता शिविर लगाने चाहिए।

 


ज्ञापन में लिखा गया है कि हिमाचल प्रदेश के सरकारी स्कूलों (Government schools) में अनुसूचित जाति के बच्चों के साथ मिड-डे मील के दौरान जातीय भेदभाव के चलते मासूम स्कूली बच्चों के साथ अत्याचार बढ़ते जा रहे हैं जिससे छोटे-छोटे मासूम हमारे समाज के बच्चों की मानसिकता में कमजोरी आ रही है। हालांकि ज्यादातर अनुसूचित जाति के बच्चों ने स्कूल तक छोड़ दिए हैं। उन्होंने कहा कि बाली चौकी के नौणा स्कूल में हुए जातीय भेदभाव मामले में मुख्य शिक्षिका को सस्पेंड तो कर दिया गया है मगर अभी तक दोषी शिक्षिका सहित मिड-डे मील वर्कर्स को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

संगठन के सदस्यों ने कहा कि सरकार व शिक्षा विभाग (education Department) द्वारा प्रत्येक सरकारी स्कूलों में मिड-डे मील के दौरान हो रहे भेदभाव को रोकने संबंधी जागरूकता शिविर लगाने चाहिए जिससे बच्चों की मानसिकता पर पड़ रहा बुरा प्रभाव रोका जा सके। उन्होंने बताया कि पुलिस विभाग की कार्यप्रणाली पर भी अनुसूचित जाति से जुड़े हुए मामलों पर हमेशा सवाल उड़ते रहे हैं क्योंकि विभाग के अधिकारी अनुसूचित जाति से संबंधित मामलों में पीड़ित पक्ष को विश्वास में न ले कर उल्टा उन्हें धमकाते रहते हैं जिससे स्पष्ट जांच नहीं हो पाती है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है