Covid-19 Update

3874
मामले (हिमाचल)
2555
मरीज ठीक हुए
17
मौत
2,506,247
मामले (भारत)
21,179,055
मामले (दुनिया)

खुशवंत सिंह लिटफेस्ट में अनुच्छेद 370 की पैरवी, हिंदू संगठनों ने किया विरोध-प्रदर्शन

तलवीन सिंह ने कहा कश्मीर की समस्या राजनीतिक, वहां के लोग पीओके के साथ मिलकर खुशियां बांटना चाहते हैं

खुशवंत सिंह लिटफेस्ट में अनुच्छेद 370 की पैरवी, हिंदू संगठनों ने किया विरोध-प्रदर्शन

×

- Advertisement -

कसौली। खुशवंत सिंह लिटफेस्ट के दूसरे दिन शनिवार को कुछ बुद्धिजीवियों ने केंद्र सरकार के जेएंडके (J&K) से अनुच्छेद 370 हटाने के निर्णय को गलत करार दिया, वहीं बुद्धिजीवियों की इस बात पर लिटफेस्ट के आयोजन स्थल के बाहर कुछ हिंदू संगठनों ने इस पर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। वक्ताओं ने कहा कि जेएंडके (J&K) में अनुच्छेद 370 पुन: बहाल कर केंद्र सरकार कश्मीरियों से माफी मांगे। साथ ही सुप्रीम कोर्ट से भी इस मुद्दे पर हस्तक्षेप करने की मांग की।



यह भी पढ़ें: पच्छाद: चुनावी जंग में उतरे पूर्व सीएम धूमल, नैनाटिक्कर व लानाबांका में गरजे

पहले दिन पाकिस्तान (Pakistan) पर दरियादिली के बाद लिटफेस्ट का दूसरा दिन जेएंडके (J&K) पर केंद्र सरकार को कोसने में गुजरा, जिससे ये विवादों में आ गया है। साहित्यकार तलवीन सिंह ने कहा कि कश्मीर की समस्या राजनीतिक है, वहां के लोग पीओके के साथ मिलकर खुशियां बांटना चाहते हैं। उन्होंने आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर पर भी शक जताया।
पैराडाइज ऐट वार पुस्तक की लेखक राधा कुमार ने कहा कि कश्मीर के लोग आजादी चाहते हैं, उन्हें केंद्र सरकार की तरफ से थोपे जा रहे आदेश स्वीकार नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाने के बाद जो हालात बने हैं वे तभी सामान्य होंगे, जब केंद्र इस निर्णय को वापस ले। सिर्फ युद्ध और बंदूकों के दम पर लोगों के दिल नहीं जीते जा सकते हैं। जेएंडके (J&K) के बीजेपी (BJP) प्रवक्ता तुहिन ए सिन्हा ने कहा कि पूर्व पीएम जवाहर लाल नेहरू और शेख अब्दुल्ला की वजह से घाटी समस्या बना हुआ है। जेएंडके (J&K) पर राजनीति करते आए परिवार अनुच्छेद 370 हटने से खुश नहीं हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News















loading...


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है