Covid-19 Update

2,05,061
मामले (हिमाचल)
2,00,704
मरीज ठीक हुए
3,498
मौत
31,396,300
मामले (भारत)
194,663,924
मामले (दुनिया)
×

आतंकी मुठभेड़ में दे दी जान, पर 30 साल बाद भी विधवा पत्नी को नहीं मिला न्याय

आतंकी मुठभेड़ में दे दी जान, पर 30 साल बाद भी विधवा पत्नी को नहीं मिला न्याय

- Advertisement -

सुंदरनगर। मंडी जिला के बल्ह उपमंडल की हल्यातर पंचायत के सरूआ गांव के शहीद हुए दीपराज ठाकुर की शहादत को प्रदेश सरकार भले ही भूल चुकी है, लेकिन दीपराज ठाकुर की कुर्बानी आज भी मंडी जिला की जनता के दिल में है। राज्य और केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से 30 साल बीत जाने के बाद दीपराज ठाकुर के परिवार के किसी सदस्य को नौकरी (JOB) मिली है और ना ही सरकारी तौर पर आर्थिक मदद आज तक केंद्र और राज्य सरकार की ओर से प्राप्त हुई है। इस बात को लेकर शहीद दीपराज ठाकुर के परिवार और पंचायत की जनता को गहरा मलाल है।

यह भी पढ़ें: पच्छाद में प्रचार करते राठौर को मिला आईपीएच की पाइपों का जखीरा, निर्वाचन अधिकारी से शिकायत

दीपराज ठाकुर की विधवा पत्नी शारदा देवी, भाई परसराम ग्राम पंचायत के प्रधान रोशन लाल ठाकुर समेत अन्य ग्राम सुधार सभा समिति के सदस्य और समाजसेवी सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) से आग्रह किया है कि वह शहीद दीपराज ठाकुर के परिवार के सदस्य को नौकरी प्रदान करने में पहल करें। 30 साल के लंबे इंतजार के बाद आज दिन तक जो भी वित्तीय लाभ दीपराज ठाकुर के परिवार को मिलने हैं, उन्हें दिलवाने में शहीद दीपराज ठाकुर के परिवार की मदद करें



एटीपीएफ बॉर्डर में आतंकवादियों से हुई मुठभेड़ में हुए थे शहीद

सन 1991 में दीपराज ठाकुर आसाम के भूटान में एटीपीएफ (ATPF) बॉर्डर में आतंकवादियों से हुई मुठभेड़ में बम ब्लास्ट के दौरान अपने चार अन्य साथियों के साथ शहीद हो गए थे। लेकिन विडंबना यह है कि संबंधित राज्यों की सरकारों ने उक्त चार अन्य शहीदों को और उनके परिजनों को सरकारी नौकरी प्रदान करने के साथ-साथ आर्थिक मदद और पेंशन वेतन अवश्य ही मुहैया करवाया, लेकिन एकमात्र शहीद दीपराज ठाकुर के परिवार को ही हिमाचल सरकार ना तो शहीद का दर्जा दिया गया है और ना ही शहीद दीपराज के परिवार के किसी सदस्य को सरकारी नौकरी दी गई है। इतना ही नहीं बल्कि वेतन पेंशन और अन्य वित्तीय लाभ भी नहीं मिले हैं।

शहीद दीपराज ठाकुर के भाई परसराम का कहना है कि वे अपने भाई को न्याय दिलवाने के लिए हिमाचल सरकार से लेकर केंद्र सरकार तक और संबंधित राज्य की आसाम सरकार तक के मुख्य सचिव व राज्यपाल और देश के पीएम, गृह मंत्री संबंधित राज्य के सीएम सहित अन्य कई मंत्रियों से इस मसले में पैरवी करने और विधवा शारदा देवी को न्याय दिलवाने के लिए बार-बार आग्रह कर चुके हैं। ग्राम पंचायत प्रधान रोशन लाल ठाकुर का कहना है कि पंचायत के माध्यम से भी सीएम जयराम ठाकुर को पत्र लिखेंगे और शहीद दीपराज ठाकुर को शहीद का दर्जा दिलवाने से लेकर उसके घर तक पक्की सड़क का निर्माण करने और शहीद के नाम पर क्षेत्र में पार्क स्थापित करने की मांग की जाएगी।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है