Covid-19 Update

2, 85, 012
मामले (हिमाचल)
2, 80, 818
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,140,068
मामले (भारत)
528,280,106
मामले (दुनिया)

भारत में यहां है दामादों का गांव, 400 परिवार…घरवाली चलाती है घर

यूपी के पुरवा गांव में बेटियों को बेटों के बराबर मिलता है अधिकार, कोई बंदिश नहीं

भारत में यहां है दामादों का गांव, 400 परिवार…घरवाली चलाती है घर

- Advertisement -

यूपी (UP) का पुरवा गांव कई मायनों में सामाजिक दायरों को तोड़ने वाला है। ये दामादों का गांव है। चौंक गए ना, लेकिन यही हकीकत है। परंपरा कहिए या महिलाओं की शक्ति। शादी (Marriage) के बाद पतियों के यहां आकर बसने की रवायत ऐसी चली कि अब 400 परिवारों की यही कहानी (Story) है। शादी होने के बाद बेटों को ब्याह कर बेटियां यहां पूरा परिवार चला रही हैं। इस गांव में रहने वाले अधिकांश लोग ऐसे हैं जो बाहरी है, जिन्होंने शादी के बाद से ही गांव में डेरा जमा लिया। ससुराल के बंधनों से आजाद यहां विवाहिता पति (Husbend) के साथ बराबरी से रहकर हर तरह से उसकी मदद करती हैं।

यह भी पढ़ें- भारत में यहां है पाताल लोक, धरती तक कभी नहीं पहुंचती सूरज की एक भी किरण, यह है वजह

70 से लेकर 25 साल तक के दामाद

इस गांव (Village) में रहने वाले पुरुषों के साथ ही गांव की महिलाएं भी परिवार चलाने में पति की मदद करती है। इसके लिए वह घर में बीड़ी बनाने के काम का करती है। इससे होने वाली आय को वह परिवार के भरण पोषण में खर्च करती है। यह सिलसिला गांव में लिए नया नहीं है। दशकों से दामादों ने यहां परिवार बसा रखा है। इस गांव में 70 साल से लेकर 25 साल की आयु वर्ग के दामाद परिवार के साथ खुशी.खुशी रहते हैं।

महिला को है बराबरी का हक

गांव की विशेषता ये है कि बेटियों (Duaghters)को बेटों के बराबर शिक्षा व अन्य सुविधाएं दी जाती हैं। इस गांव में बेटियां हर वो काम करती हैं, जो बेटे कर सकते हैं। इन पर किसी तरह की कोई पाबंदी नहीं है। 20 साल पहले पति के साथ गांव में रहने के लिए आई यासमीन बेगम की मानें तो ससुराल में कितनी भी आजादी हो, लेकिन ससुराल में कुछ न कुछ बंधन तो होता ही है। यहां पति के साथ रहते हुए वह अपनी मर्जी से रोजगार भी कर पा रही हैं।

यहां दामादों की है कई पीढ़ियां

यहां कुछ परिवार तो ऐसे हैं, जहां ससुर भी यहां घर जमाई बनकर आए थे। गांव के संतोष कुमार की मानें तो उसके ससुर रामखेलावन ने गांव की बेटी प्यारी हेला के साथ शादी कर ली। उसके बाद यहां रहने लगे। वह भी उनकी बेटी चंपा हेला के साथ शादी के बाद गांव में बस गए थे।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है