Covid-19 Update

2,18,000
मामले (हिमाचल)
2,12,572
मरीज ठीक हुए
3,646
मौत
33,617,100
मामले (भारत)
231,605,504
मामले (दुनिया)

स्वतंत्रता दिवस के दिन भी नहीं बख्शा: Congress चीफ सोनिया ने बोला केंद्र पर बड़ा हमला; जानें क्या कहा…

स्वतंत्रता दिवस के दिन भी नहीं बख्शा: Congress चीफ सोनिया ने बोला केंद्र पर बड़ा हमला; जानें क्या कहा…

- Advertisement -

नई दिल्ली। देश आज अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस (Independence day) मना रहा है। इसी कड़ी में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने भी देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी। अपनी इन शुभकामनाओं के साथ ही उन्होंने आज के दिन भी मोदी सरकार पर निशाना साधने का मौका अपने हाथ से नहीं जाने दिया। सोनिया ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि सरकार प्रजातांत्रिक व्यवस्था, संविधान मूल्यों और स्थापित परंपराओं के विपरीत खड़ी है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया ने आगे कहा कि हमारे भारतवर्ष की ख्याति विश्व भर में ना सिर्फ प्रजातांत्रिक मूल्यों और विभिन्न भाषा, धर्म, संप्रदाय के बहुलतावाद की वजह से है, बल्कि भारत प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना एकजुटता के साथ करने के लिए भी जाना जाता है।

भारतीय लोकतंत्र के लिए परीक्षा की घड़ी

उन्होंने अपनी बात जारी रखते हुए कहा, ‘आज जब समूचा विश्व कोरोना महामारी की महाविभीषिका से जूझ रहा है, तब भारत को एकजुट होकर इस महामारी को परास्त करने के प्रतिमान स्थापित करने होंगे। मैं पूरे आत्मविश्वास से कह सकती हूं कि हम सब मिलकर इस महामारी और गंभीर आर्थिक संकट की दशा से बाहर आ जाएंगे।’ सोनिया ने कहा हमने बीते 74 वर्षों की स्वाधीनता में अपने प्रजातांत्रिक मूल्यों को समय-समय पर परीक्षा की कसौटी पर परखा है और उसे निरंतर परिपक्व किया है। आज ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार प्रजातांत्रिक व्यवस्था, संविधान मूल्यों और स्थापित परंपराओं के विपरीत खड़ी है। भारतीय लोकतंत्र के लिए भी ये परीक्षा की घड़ी है।

यह भी पढ़ें: कंगना का बड़ा खुलासा: Congress हर साल ऑफर देती है; BJP भी दे रही थी टिकट

चीन से झड़प में शहीद हुए जवानों को भी किया याद

सोनिया ने अपने संबोधन में चीन और भारतीय सेना के बीच हुए टकराव का जिक्र करते हुए कहा कि कर्नल संतोष बाबू और हमारे 20 जवानों की गलवान घाटी में वीरगति को भी साठ दिन बीत चुके हैं। मैं उनको भी याद कर उनकी वीरता को नमन करती हूं और सरकार से आग्रह करती हूं की उनकी वीरता का स्मरण करे और उचित सम्मान दे। भारत मां की सरजमी की रक्षा और चीनी घुसपैठ को विफल करना उन्हें सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने आगे कहा कि आज हर देशवासी को अंतरात्मा में झांककर यह सोचने की आवश्यकता है कि आजादी के क्या मायने हैं? क्या आज देश में लिखने, बोलने, सवाल पूछने, असहमत होने, विचार रखने, जवाबदेही मांगने की आजादी है? एक जिम्मेदार विपक्ष होने के नाते ये हमारा उत्तरदायित्व है कि हम भारत की प्रजातांत्रिक स्वाधीनता को अक्षुण्ण बनाए रखने का हरसंभव प्रयत्न और संघर्ष करें।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखने के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है