Covid-19 Update

2,01,210
मामले (हिमाचल)
1,95,611
मरीज ठीक हुए
3,447
मौत
30,134,445
मामले (भारत)
180,776,268
मामले (दुनिया)
×

हरियाणा में रैपिड Test Kit बना रही द.कोरियाई कंपनी, सरकार ने कैंसिल किया चीन को दिया आर्डर

हरियाणा में रैपिड Test Kit बना रही द.कोरियाई कंपनी, सरकार ने कैंसिल किया चीन को दिया आर्डर

- Advertisement -

मानेसर। दक्षिण कोरिया की एसडी बायोसेंसर नामक कंपनी ने हरियाणा (Haryana) के मानेसर स्थित फैसिलिटी में  रैपिड टेस्टिंग किट्स (Rapid Testing Kits) का उत्पादन शुरू कर दिया है. यह चीन से आयात की जाने वाली रैपिड टेस्ट किट की तुलना में 400 रुपए सस्ती है। सरकार को इस कंपनी द्वारा 25 हजार रैपिड टेस्ट किट की पहली खेप मिल गई है। जिसके बाद हरियाणा सरकार ने चीन से आने वाली रैपिड टेस्ट किट के आर्डर रद्द कर दिए हैं। चीन से करीब एक लाख रैपिड टेस्ट किट आने वाली थी।

यह भी पढ़ें: Jio-Facebook डील: करोड़ दुकानदारों की चांदी; आम कंज्यूमर को भी मिलेगा फायदा

दक्षिण कोरिया में भारतीय दूतावास ने ट्वीट कर बताया कि इस फैसिलिटी में हर हफ्ते 5,00,000 रैपिड टेस्टिंग किट्स की उत्पादन क्षमता है, जिसे आने वाले हफ्तों में बढ़ रही मांग को पूरा करने के लिए बढ़ाया जाएगा। इसे 380 रुपए प्रति किट की दर से मुहैया करवाने की पेशकश की है. वहीं चीन को एक लाख किट का आर्डर 780 रुपये प्रति किट के हिसाब से दिया गया था। बड़ी बात यह है कि किट बनाने की स्वीकृति 15 दिन में ही मिल गई, जिसमें रूटीन में पांच माह तक का समय लग जाता है, क्योंकि इसे नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे और उसके बाद भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के पास भेजना होता है, जिसके बाद औषध महानियंत्रक से उत्पादन की स्वीकृति लेनी होती थी। बताया जा रहा है कि यह कंपनी एक माह में एक करोड़ किट तैयार करेगी।


हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है