परमार बोले, डॉक्टरों के हिमाचल छोड़ने को लेकर 3 से 5 वर्ष की शर्त पर हो रहा विचार

हिमाचल अभी अभी मुख्य कार्यालय में विशेष बातचीत के दौरान किया खुलासा

परमार बोले, डॉक्टरों के हिमाचल छोड़ने को लेकर 3 से 5 वर्ष की शर्त पर हो रहा विचार

- Advertisement -

सुरेश कुमार/कांगड़ा। स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने हिमाचल से डॉक्टरों के पलायन को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि वह तो यह चाहते हैं कि डॉक्टर हिमाचल में सेवाएं दें। लेकिन, मेडिकल लाइन में बहुत संभावनाएं होती हैं। ऐसे में सरकार के पास मामला प्रस्तावित है कि जो डॉक्टर हिमाचल छोड़कर जाना चाहते हैं वह 3 या 5 साल की सेवाएं देकर जा सकते हैं। जल्द ही इस पर कोई निर्णय लिया जाएगा। यह बात स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार हिमाचल अभी अभी के मुख्य कार्यालय में विशेष बातचीत के दौरान कही। उन्होंने यह भी कहा कि अगर एबीबीएस के बाद डॉक्टर हिमाचल में पीजी कर रहे हैं तो वह हिमाचल में ही अपनी सेवाएं दें। परमार ने कहा कि इस वक्त टांडा मेडिकल कॉलेज के 17 विभागों में 81 डॉक्टर पीजी कर रहे हैं। आईजीएमसी के 21 विभागों में 125 डॉक्टर पीजी कर रहे हैं।

देश का पहला राज्य बन जाएगा हिमाचल, जहां सरप्लस होंगे डॉक्टर

स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने हिमाचल में डॉक्टरों की कमी को लेकर कहा कि जल्द ही हिमाचल देश का पहला राज्य बन जाएगा जहां पर डॉक्टर सरप्लस हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि जयराम सरकार के सत्ता संभालने के बाद 350 डॉक्टरों की तैनाती की है। यह डाक्टर वॉक इन इंटरव्यू के जरिए रखें गए हैं। 200 डॉक्टरों के पद हिमाचल पब्लिक सर्विस कमीशन के माध्मय से भर रहे हैं। इसके लिए औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं। इस माह 31 दिसंबर को 350 डाक्टर्स पास आउट हो रहे हैं। इसके लिए टांडा, आईजीएमसी व एमएमयू सोलन में इंटरव्यू रखें गए हैं। इस इंटरव्यू के माध्यम से 350 डॉक्टर मिलेंगे। अभी हिमाचल में करीब 267 डॉक्टरों की कमी है। यह 350 डॉक्टर लग जाते हैं तो हिमाचल में डॉक्टर सरप्लस हो जाएंगे

जैनेरिक दवाइयां न लिखने वाले 400 डॉक्टरों को  भेजे नोटिस 

जो डाक्टर अपने निजी हित के लिए मरीज की मजबूरी का फायदा उठा रहे हैं, उसे सहन नहीं किया जाएगा। ऐसे डॉक्टरों पर कानून के तहत कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। यह बात स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने ने कहा कि दवाई बनाने वाली कंपनी और दवाइयां बेचने वाले हॉल सेलर के गठजोड़ वाले 400 डॉक्टरों की सूची विभाग के पास पहुंची है। यह देखा जा रहा है कि इन 400 डॉक्टरों ने कितनी बार नियमों का उल्लंघन किया है। इन डॉक्टरों को नोटिस भेजा है। जवाब मिलने पर कार्रवाई शुरू होगी। उन्होंने कहा कि डॉक्टर जैनेरिक दवाइयां लिखें। जैनेरिक दवाइयां भी पेटेंट हैं। उन्होंने कहा कि कुछ मल्टीनेशनल कंपनियों का बाजार प्रभावित न हो इसके लिए भ्रांतियां फैलाने की कोशिश की जा रही है। पर सरकार इस मामले में कड़ा रुख अपनाएगी। जैनेरिक दवाइयों के मामले में सरकार सख्त है। किसी से भी किसी भी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा।

https://youtu.be/QbBarebwCN8

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है