बीसीसीआई ने आईसीसी से कहा, धोनी को सेना के ‘बलिदान’ बैज के साथ खेलने दिया जाए

बीसीसीआई ने आईसीसी को पत्र लिखकर कही यह बात

बीसीसीआई ने आईसीसी से कहा, धोनी को सेना के ‘बलिदान’ बैज के साथ खेलने दिया जाए

- Advertisement -

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) के दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ गए मैच में पहने गल्व्स पर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज के ग्लव्स पर बने ‘बलिदान बैज’ पर अब आईसीसी (ICC) ने आपत्ति जताई थी इसके जवाब में अब बीसीआई (BCCI) ने कहा है कि उन्हें बलिदान बैज के साथ खेलने दिया जाए। इससे पहले आईसीसी ने बीसीसीआई से धोनी के विकेटकीपिंग ग्लव्स से ‘बलिदान बैज’ या पैरा स्पेशल फोर्स के रेजिमेंटल निशान को हटाने के लिए कहा था। इस पर शुक्रवार को बीसीसीआई ने आईसीसी को पत्र लिखा। इस पत्र में उन्होंने कहा कि उनको ‘बलिदान बैज’ हटाने की जरूरत नहीं है।


यह भी पढ़ें- धोनी ने ग्लव्स पर सेना का ‘बलिदान’ बैज लगाकर खेला अफ्रीका के खिलाफ मैच, तस्वीर वायरल

आईसीसी की स्ट्रैटजिक कम्युनिकेशन जनरल मैनेजर क्लेयर फरलॉन्ग ने कहा कि अब तक बीसीसीआई की तरफ से उन्हें कोई पत्र (Latter) नहीं मिला है। आईसीसी बाद में इस बारे में विचार करेगा। इससे पहले फरलॉन्ग ने कहा था कि विकेटकीपर के ग्लव्स पर सिर्फ निर्माता कंपनी (Compnay) का नाम लिखा होना चाहिए। धोनी का ग्लव्स आईसीसी के नियमों का उल्लंघन है। आईसीसी राजनीतिक और धार्मिक चिन्ह के इस्तेमाल की इजाजत नहीं देता।’

यह भी पढ़ें- वर्ल्ड कप 2019: टीम इंडिया ने 6 विकेट से जीता मुक़ाबला, रोहित का शतक

उधर, सीओए के चेयरमैन विनोेद राय ने शुक्रवार को बताया कि, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने पहले ही आईसीसी से धोनी के ग्लव्स पर ‘बलिदान बैज’ रखने के लिए अनुमति मांगी है। उन्होंने कहा, ‘आईसीसी के नियमों के अनुसार कोई भी खिलाड़ी कमर्शियल, धार्मिक और सेना के लोगों का इस्तेमाल नहीं कर सकता। धोनी का लोगो कमर्शिया और धार्मिक नहीं है।’ इसके अलावा पाकिस्तान के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद हुसैन चौधरी ने इस मामले में भारतीय विकेटकीपर पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट (Tweet) किया, ‘‘धोनी इंग्लैंड में क्रिकेट खेलने गए हैं न कि महाभारत के लिए। भारतीय मीडिया का एक वर्ग युद्ध से इतना प्रभावित है कि उन्हें सीरिया, अफगानिस्तान या रवांडा में भाड़े के सैनिकों के रूप में भेजा जाना चाहिए।’


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

गडकरी से मिले जयराम, रज्जू मार्ग परियोजनाओं के लिए मांगें 500 करोड़

मंडीः नशे में टल्ली महिला ने मचाया हुड़दंग, बुलानी पड़ी पुलिस

Important: हिमाचल भवन में चल रही संघ की बैठक खत्म, निकले नड्डा-जयराम भी गए 'सदन'

रविंद्र रवि के खिलाफ फोरेंसिक रिपोर्ट के बाद अब BJP-In-Action

वायरल पत्र मामलाः परमार बोले-जयराम सरकार के खिलाफ था बड़ा षड्यंत्र

संभलकरः इस जिला में ब्रांडेड कंपनी के दूध में पाया गया यूरिया

In Depth: जयराम के दिल्ली दौरे की मिल गई असल वजह, फिलवक्त बिंदल से हो रही है गुफ्तगू

बिना SPG रॉबर्ट संग शिमला से वापस लौटीं प्रियंका, संसद में मचा है सुरक्षा हटने पर बवाल

HP पटवारी परीक्षा: जारी हुई उत्तर कुंजी, जानें कितने सवालों का दिया है सही उत्तर

सियाचिन में हिमस्खलन की चपेट में आकर हिमाचल का जवान शहीद

सत्ती बोले, राठौर के अध्यक्ष बनने के बाद से हुई कांग्रेस की दुर्गति

इंदिरा गांधी की 102वीं जयंती : रिज पर सीएम जयराम ने आयरन लेडी को किया याद

इंदिरा गांधी की 102वीं जयंती पर पीएम मोदी, सोनिया गांधी व अन्य ने दी श्रद्धांजलि

ब्रेकिंग: सियाचिन में हिमस्खलन, चार सैनिक और दो नागरिकों की मौत

बिग ब्रेकिंगः Ravinder Ravi के कहने पर ही मसंद ने वायरल की थी पोस्ट, रिपोर्ट में खुलासा

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है