Covid-19 Update

2,04,887
मामले (हिमाचल)
2,00,481
मरीज ठीक हुए
3,495
मौत
31,329,005
मामले (भारत)
193,701,849
मामले (दुनिया)
×

पांच बीवियों का खर्च नहीं उठा पाया तो बन गया ठग, एम्स में नौकरी के बहाने लड़कियों से ऐंठता था पैसे

पांच बीवियों का खर्च नहीं उठा पाया तो बन गया ठग, एम्स में नौकरी के बहाने लड़कियों से ऐंठता था पैसे

- Advertisement -

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) में नर्स के पद पर भर्ती कराने का झांसा देकर ठगी करने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है। पुलिस को शिकायत मिली थी कि कुछ लोग महिलाओं को एम्स में नर्स की नौकरी (Job) का झांसा देकर उनसे रुपए ऐंठ रहे हैं जिसके बाद मामला एसटीएफ को सौंपा गया।

यह भी पढ़ें :-अनुच्छेद 370 को बड़ा चुनावी मुद्दा बनाना बीजेपी पर ही उल्टा पड़ेगा: शैलजा

एसटीएफ (STF) ने जांच और छानबीन के बाद इस गिरोह के सरगना जबलपुर के दिलशाद खान और भोपाल के आलोक कुमार बामने को गिरफ्तार कर लिया है। एसटीएफ के एडीजी अशोक अवस्‍थी ने बताया कि ये गिरोह एम्स में नर्स के पद पर भर्ती कराने के नाम पर अब तक 50 से ज्यादा लड़कियों से लाखों रुपये की ठगी कर चुका है। एडीजी एसटीएफ अशोक अवस्थी के मुताबिक पूछताछ में खुलासा हुआ है कि गिरोह के सरगना दिलशाद खान की पांच बीवियां हैं जिनके रहन-सहन और भारी-भरकम खर्चे को पूरा करने के लिए दिलशाद ठगी के काले धंधे में उतर गया था।


दिलशाद ने बताया है कि उसकी एक पत्नी जबलपुर में निजी क्लिनिक (Private Clinic) चलाती है जबकि उसके साथी आलोक की पत्नी भोपाल में सरकारी गर्ल्स हॉस्टल की सुपरिटेंडेंट है। बताया जा रहा है कि फिलहाल दोनों महिलाओं का सीधे तौर पर ठगी में कोई हाथ नहीं सामने आया है, लेकिन उनसे उनकी भूमिका के बारे में पूछताछ की जा सकती है। एसटीएफ के मुताबिक गिरोह के निशाने पर पढ़ी-लिखी युवती होती थीं जो नौकरी की तलाश में रहती थीं। एसटीएफ फिलहाल ये पता लगाने में जुटी है कि जिन युवतियों को इस गिरोह ने अपना शिकार बनाया है वो मध्य प्रदेश के किन किन शहरों या गांव की रहने वाली हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है