×

ये है हिमाचल का हैरान कर देने वाला झरना, Video देखकर कोई भी चकरा जाए

तीर्थन घाटी के श्रीकोट का भरयाडा छो झरना पर्यटकों को कर रहा है आकर्षित

ये है हिमाचल का हैरान कर देने वाला झरना, Video देखकर कोई भी चकरा जाए

- Advertisement -

परस राम भारती/ बंजार। हिमाचल प्रदेश का कुल्लू जिला (Kullu district of Himachal Pradesh) पर्यटन की दृष्टि से यहां की बर्फीली चोटियों, कल-कल करती नदियों, झर-झर करते झरनों, शान्त और सुरम्य झीलों, घने जंगलों, सुन्दर वादियों और दर्रों के लिए विख्यात है। जिला के उपमंडल बंजार की तीर्थन घाटी (Teerthan Valley of Banjar)भी कई नजारों और खुबसूरत झरनों (Waterfall) से भरी पड़ी है। कोरोना काल के बाद यहां पर पर्यटकों की आवाजाही बढ़ने लगी है। समूची तीर्थन घाटी के पहाड़ों पर कई छोटी बड़ी नदियों, नालों, झरनों, झीलों और खड्डों का जाल बिछा हुआ है। तीर्थन घाटी में ऊंचे पहाड़ों और घनघोर जंगल के बीच छिपे एक झरने का गिरता पानी हर किसी के मन और मस्तिष्क को शान्त कर देता है।


यह भी पढ़ें: दुनिया के 10 सबसे खूबसूरत Waterfall, एक बार यहां जरूर करें विजिट

तीर्थन घाटी की दूर दराज ग्राम पंचायत श्रीकोट के शरेडा वार्ड के भरयाडा नामक स्थान पर यह प्राकृतिक झरना मौजूद है। इस झरने को स्थानीय भाषा में भरयाडा छो कहते हैं। यहां पर घाटी के महशूर स्थानीय देवता भरयाडू का पवित्र स्थान भी है। तीर्थन की जिस जल धारा से यह झरना बहता है इसका नाम भी भरयाडा गाड़/खड्ड है। इस स्थान पर दूर-दूर से लोग अपने देवता की पालकी रथ के साथ आते है और पूजा-अर्चना व धार्मिक अनुष्ठान करने के पश्चात वापस चले जाते हैं। कई श्रदालु झरने से थोड़ी दूरी पर स्थित गुफा में ही रात्रि विश्राम करते हैं। समूची तीर्थन घाटी के पहाड़ों, वक्षों, नदी नालों के संगम स्थलों, झीलों, झरनों आदि में यहां के देवताओं का वास होता है इसलिए तीर्थन घाटी को देवभूमि भी कहते हैं। बुजुर्गों का कहना है कि इन स्थानों की साफ सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

यह भी पढ़ें: वीकेंड पर सैलानियों से गुलजार हुई Kullu-Manali, पटरी पर लौटने लगा पर्यटन कारोबार

 

 

तीर्थन घाटी की दो पहाड़ियों के बीच से भरयाडा झरने का बहता हुआ पानी करीब सौ फीट से भी अधिक ऊंचाई से नीचे गिरता है। चारों ओर ऊंचे पहाड़ों से घिरे होने और घने जंगलों की हरियाली इसे और भी खूबसूरत बनाती है। पहाड़ की ऊंचाई में तीव्र गति से बहते झरने का निर्मल दूधिया जल दिल को बहुत ही सुकून देता है। हालांकि, तीर्थन घाटी में ऐसे अनेकों छोटे बड़े झरने सदियों से बहते चले आ रहे हैं लेकिन यह झरना तीर्थन घाटी ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के बफर जोन में स्थित सबसे बड़ा और सबसे लंबा बहने वाला झरना है। भरयाडा नाला पूरे सालभर पानी से भरा रहता है। इस मुख्य झरने के अलावा इस नाले में ऊपर और नीचे की तरफ और भी कई छोटे-छोटे झरने बने हुए हैं तथा इन झरनों के नीचे छोटी-छोटी झीलें बन जाती हैं जिनमें ट्राउट मछली भी पाई जाती है। भरयाडा छो झरने के पास सूर्य की किरणें पड़ते ही इन्द्रधनुष की सतरंगी छटा बिखरती है जिसे बहुत ही करीब से देखा जा सकता है। इस झरने का पानी नाले से बहता हुआ देहुरी नामक स्थान पर तीर्थन नदी में मिलता है।

यह भी पढ़ें: #Himachal में पर्यटन को पटरी पर लाना है तो करने होंगे ये काम

यह खूबसूरत झरना तीर्थन घाटी के केन्द्र बिन्दु गुशैनी से करीब 12 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है। गुशैनी से छोटे वाहन द्वारा 10 किलोमीटर तक सड़क मार्ग द्वारा पहुंचा जा सकता है, और करीब 2 किलोमीटर तक पहाड़ी रास्ते से पैदल ट्रैकिंग करनी पड़ती है जिसमें आराम से डेढ़ घंटे का समय लगता है। सड़क मार्ग से एक अन्य नाला क्रॉस करने के पश्चात पहाड़ी पगडंडी से करीब एक किलोमीटर की सीधी चढ़ाई चलनी पड़ती है और फिर चोटी पर से करीब एक किलोमीटर उतराई पर पैदल यात्रा करके भरयाडा छो झरने में पहुंचा जा सकता है। उतराई वाला रास्ता जंगल के बीच से गुजरता है जो बहुत पथरीला व खराब है जहां से काफी संभल कर चलना पड़ता है। बिना लोकल गाइड के इस स्थान पर पहुंचना मुमकिन नहीं है।बरसात के मौसम में यहाँ पर जाना खतरे से खाली नहीं,क्योंकि इस दौरान यह झरना अपना विकराल रूप धारण करता है जिस कारण इसके नजदीक नहीं जा सकते हैं। जुलाई और अगस्त माह को छोड़ कर पूरे साल भर इस स्थान पर पहुंचा जा सकता है।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है