- Advertisement -

हड़ताली कामगारों ने नहीं लगने दी जेसीबी, राजनीतिक दखल का आरोप

फिन्ना सिंह परियोजना में मिट्टी के नमूने लेने आई है केंद्रीय टीम

0

- Advertisement -

चुवाड़ी। मिट्टी के नमूने लेने आई केंद्रीय टीम के जेसीबी लगाने के प्रयास को हड़ताली कामगारों ने पूरा नहीं होने दिया। इसके बाद सिंचाई विभाग, श्रम विभाग, कंपनी तथा पुलिस टीम साइट पर डटी रही। शाम ढलते ही जिले के श्रम अधिकारी भी साइट पर पहुंच गए। युवा कामगार साफ शब्दों में इसमें एक राजनीतिक व्यक्तित्व का दबाव होने की बात कह रहे हैं। फिन्ना सिंह परियोजना में कामगारों का धरना चौथे दिन में प्रवेश कर गया। बकाया अदायगी तक काम शुरू न होने देने पर अड़े स्थानीय युवाओं के समर्थन में स्थानीय महिलाएं तथा परिजन भी पहुंचे।

परिजन 4 दिनों से खुले आसमान के नीचे तंबू गाड़े इन युवाओं के लिए खाना भी लाए थे। उधर, फिन्ना सिंह परियोजना बना रहे सिंचाई विभाग के आलाधिकारी भी चौथे दिन पुलिस बल सहित साइट पर पहुंचे। 2018 में बनने वाली यह सिंचाई योजना के भंडारण टैंक तक संशय बरकरार है। आलम यह कि अभी इसकी मिट्टी की टेस्टिंग तक नहीं हो पाई है। परियोजना का काम कर रही निजी कंपनी में 2 साल से काम कर रहे स्थानीय कामगारों ने श्रमाधिकार हनन का आरोप लगाते हुए हड़ताल कर दी है। कामगारों ने श्रम विभाग पर भी कंपनी से मिलीभगत तक के आरोप जड़े हैं। काम शुरू करवाने के लिए सिंचाई विभाग के अधिकारी पुलिस दस्ते के साथ सुबह से मौजूद रहे तो वहीं डीएसपी डलहौज़ी रोहिन डोगरा भी दोपहर को साइट पर पहुंचे।

उधर, इस संदर्भ में जब फिन्ना परियोजना का काम कर रहे सिंचाई विभाग के एसडीओ विजय शर्मा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मिट्टी के नमूने लेने आई केंद्रीय टीम के चलते वो साइट पर हैं। उन्होंने बताया कि कंपनी और कामगारों के विवाद को खत्म करने के प्रयास जारी हैं। बताते चलें कि 9 माह से वेतन न मिलने से भड़के कामगारों ने काम ठप कर दिया था।

- Advertisement -

Leave A Reply