Expand

खुद को आग लगाने वाले छात्र की मौत

खुद को आग लगाने वाले छात्र की मौत

- Advertisement -

कांगड़ा। स्कूल की छुट्टियों के दौरान होमवर्क नहीं करने के डर से खुद को आग लगाने वाले सातवीं कक्षा के छात्र पंकज कुमार की टांडा अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। हादसे में 60 फीसदी तक जल चुके उपमंडल भोरंज के जौह गांव निवासी पंकज को वीरवार को गंभीर हालत में हमीरपुर से टांडा अस्पताल रेफर किया गया था।

  • उपचार के दौरान टांडा मेडिकल कॉलेज में तोड़ा दम
  • होमवर्क नहीं करने पर खुद को लगा ली थी आग
  • घटना में 60 फीसदी झुलस गया था सातवीं का छात्र पंकजsuicide-logo-1

सनद रहे कि दीवाली की छुट्टियां खत्म होने के बाद पंकज वीरवार सुबह घर से स्कूल के लिए निकला था, लेकिन उसने होमवर्क नहीं किया था और उसी डर में उसने रास्ते में ही खुद पर मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगा ली थी।

 वह मिट्टी का तेल भी अपने स्कूल बैग में घर से ही लेकर आया था। स्थानीय युवकों ने जब उसके चीखने की आवाज सुनी तो वह सहायता के लिए दौड़े और आग बुझाने का प्रयास किया। तब तक पंकज काफी हद तक जल चुका था और उसे गंभीर अवस्था में भोरंज अस्पताल पहुंचाया गया, जहां से उसे हमीरपुर और बाद में टांडा रेफर किया गया था। मुकेश की गंभीर हालत के चलते वह बयान देने की स्थिति में नहीं था इसलिए पुलिस उसका कोई बयान दर्ज नहीं कर पाई है। वहीं पंकज के परिजनों का कहना है कि उन्होंने भी उसे होमवर्क करने के लिए नहीं डांटा था इसलिए यह घटना उनके लिए भी पहेली बनी हुई है कि आखिर पंकज ने ऐसा कदम क्यों उठाया।

डांट के डर से चुनी ली ऐसी दर्दनाक मौत

हमीरपुर। होमवर्क के डांट के डर से आत्मदाह करना तेरह वर्षीय बालक को महंगा पड़ा और होमवर्क के डर से 13 साल के पंकज की शुक्रवार तड़के टांडा मेडिकल कॉलेज में दर्दनाक मौत हो गई है। आत्मदाह की इस वारदात से हर कोई सन्न हो गया है। सातवीं कक्षा में पढ़ रहे पंकज अपने साथ अपने स्कूल बैग में ही मिट्टी का तेल छिपाकर ले गया था। मौका मिलते ही मिट्टी का तेल अपने ऊपर छिड़ककर आग लगा ली। पंकज आग से 60 फीसदी शरीर झुलस गया था। उसी वक्त पंकज के बच पाने की उम्मीद काफी कम लग रही थी। समूचे प्रदेश में आत्मदाह की इस वारदात को लेकर चर्चा है।

  • hmr-newsपुलिस घटना की छानबीन कर रही है, लेकिन सीधे-सीधे तौर पर इस नतीजे पर नहीं पहुंच पा रही है कि पंकज ने होमवर्क के डर से ही आत्मदाह किया। सप्ताह के अवकाश के समाप्त होने पर वीरवार को ही स्कूल खुला था।
  • भोरंज उपमंडल के जौह गांव का रहने वाला पंकज वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कोट में शिक्षा ग्रहण कर रहा था। पिता जाहू में दुकान करते हैं। पंकज के शिक्षकों के साथ-साथ स्कूल प्रशासन में भी इस वारदात के बाद हड़कंप मचा हुआ है। पुलिस के लिए भी मामला काफी टेढ़ा साबित हो सकता है।
  • अब देखना यह भी है कि आत्महत्या के लिए पंकज को उकसाने का मामला बनता है या नहीं। आईपीसी की धारा-306 में आत्महत्या के लिए उकसाने का कठोर कानून है। यह सब कुछ पुलिस की तफ्तीश में ही सामने आ सकता है। वहीं, शिक्षा विभाग भी इस तरह की घटना से दंग है।

हैरानी इस बात पर भी है कि इतनी कम उम्र के बच्चे ने आत्महत्या करने का फैसला तो लिया और आत्मदाह करने का। जानकार कहते हैं कि अमूमन इतनी कम उम्र में बच्चे आत्महत्या जैसा संगीन कदम नहीं उठाते हैं। अवाहदेवी चौकी प्रभारी एएसआई राकेश कुमार ने स्कूली छात्र पंकज की मौत को लेकर पुष्टि की है। उधर, प्रारंभिक शिक्षा विभाग निदेशक सोमदत्त सांख्यान का कहना है कि शिक्षा विभाग भी मामले से पूरी तरह से हैरान हैं और इस बारे में गहनता से पड़ताल करवाई जाएगी कि आखिर इसके पीछे क्या वाकई होमवर्क का डर था या और कोई वजह।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है