Expand

फूड प्वाइजनिंग मामले में होगी मेजिस्ट्रियल जांच

फूड प्वाइजनिंग मामले में होगी मेजिस्ट्रियल जांच

- Advertisement -

नाहन। शिलाई के बड़वास में चल रही प्राथमिक पाठशालाओं की खेलकूद प्रतियोगिता के दौरान बच्चों को प्रदूषित खाने से हुई फूड प्वाइजनिंग पर जिला दंडाधिकारी सिरमौर ने कड़ा संज्ञान लिया है। उन्होंने मामले की मेजिस्ट्रियल जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। एसडीएम शिलाई विकास शुक्ला को जांच अधिकारी नियुक्त किया है। मामले की एक सप्ताह के भीतर रिर्पोट देने के भी निर्देश दिए हैं। एसडीएम शिलाई विकास शुक्ला ने बताया कि फूड प्वाइजनिंग के कारण शिलाई अस्पताल में उपचाराधीन सभी 147 बच्चों व शिक्षकों को स्वास्थ्य लाभ मिलने के उपरांत छुट्टी दे दी गई है। इसमें से 30 को गत सांय की प्राथमिक उपचार के उपरांत डिस्चार्ज कर दिया गया था। उन्होंने बताया कि इस बारे गहनता से जांच की जा रही है।

dcप्राथमिक जांच में राशन में गलती से परिरक्षक दवा की गोली होने की संभावना जताई जा रही है। जिस कारण यह बहुत बड़ा हादसा हुआ है। लेकिन समय पर चिकित्सा सुविधा मिलने पर सभी बच्चों व शिक्षकों को सुरक्षित बचा दिया गया है। लेकिन सवाल यह उठता है कि प्रतियोगिता के दौरान इतनी बड़ी चूक कहां हुई। यदि समय पर चिकित्सा सहायता न मिली होती तो इस प्रकार का लापरवाही पूर्ण रवैया बच्चों की जिंदगी पर पड़ कई घरों के चिराग बुझा सकता था। दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होना आवश्यक है, ताकि भविष्य में इस प्रकार की कोताही न हो सके। साथ ही ऐसे आयोजनों के लिए पहले से ही पुख्ता प्रबंध होना आवश्यक है।

बड़वास में खाना खाने से टूर्नामेंट खेलने आए 100 से अधिक बच्चे बीमार

नाहन। शिलाई क्षेत्र की राजकीय माध्यमिक पाठशाला बड़वास में टूर्नामेंट के दौरान उस समय अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया, जब खाना खाने से 147 के करीब बच्चे और अध्यापक बीमार हो गए। खाना खाने के बाद बच्चों को एकाएक चक्कर आने लगे व उल्टी और दस्त भी शुरू हो गए। बच्चों ही अध्यापकों को भी उल्टी व दस्त की शिकायत हुई। बता दें कि शिलाई क्षेत्र की राजकीय माध्यमिक पाठशाला बड़वास में खेल प्रतियोगिता चली हुई थी। रात के खाने के बाद एकाएक बच्चों व अध्यापकों को उल्टी व दस्त की शिकायत हुई। साथ ही चक्कर आने लगे।

स्कूल में अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया। 147 बच्चों व शिक्षकों को 108 एम्बुलेंस व निजी वाहनों के जरिये अस्पताल पहुंचाया गया। अस्पताल पहुंचने पर भी अफरा.तफरी का माहौल देखने को मिला। क्योंकि अस्पताल में एक ही चिकित्सक मौजूद था। ऐसे में बीमार बच्चों व शिक्षकों को चिकित्सीय सहायता देने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इसके कारण लोगों में नाराजगी भी देखी गई। शुरुआती छानबीन में पता चला है कि खाने में कोई विषैला पदार्थ मिल गया, जिसका कारण यह हादसा पेश आया है। बताया जा रहा है कि कुछ बच्चों को प्राथमिक उपचार के बाद घर भेज दिया गया था, लेकिन उनकी तबीयत फिर बिगड़ने से उन्हें वापस अस्पताल लाया गया है।वहींए जिला मुख्यालय नाहन से शिलाई के लिए चिकित्सकों की टीम भेज दी गई है। वहीं, पुलिस ने स्कूल की मेस कमेटी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

शिलाई के बड़वास में फूड प्वाइजिंग का शिकार हुए 147 में से 90 अभी भी शिलाई अस्पताल में भर्ती हैं जिनका उपचार जारी है। 57 लोगों को छुट्टी दे दी गई है। गौर रहे कि बीती रात धाम खाने के बाद अचानक बच्चों के साथ-साथ शिक्षकों को भी चक्कर के साथ-साथ उल्टी दस्तक की शिकायत हुई थी। आनन-फानन में देर रात शिलाई अस्पताल में सभी बीमार लोगों को पहुंचाया गया। 30 बेड के अस्पताल में एक साथ 147 मरीजों के पहुंचने से यहां अफरा- तफरी मच गई। आलम ये था कि बच्चों का इलाज फर्श पर लिटाकर व अस्पताल की छत भी करना पड़ा था। करीब 5 घंटे तक यहां मौजूद अकेला डॉक्टर इलाज करता रहा। देर रात करीब साढ़े 9 बजे तक ही डॉक्टरों की टीमें शिलाई पहुंच पाईं। बताया जा रहा है कि टूर्नामेंट में हिस्सा लेने आए लोगों के लिए स्थानीय लोगों द्वारा धाम का आयोजन किया गया था और इसमें राजमा, चावल का हलवा परोसा गया था। खाना खाने के बाद ही उल्टी-दस्त की शिकायतें शुरू हो गईं व बच्चों सहित शिक्षकों को भी चक्कर आने शुरू हो गए। सवाल इस बात पर भी खड़ा हो रहा है कि क्या बच्चों को धाम में ले जाना उचित था। वहीं, इस मामले में एसडीएम शिलाई विकास शुक्ला ने उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। मामले में मैस कमेटी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। उधर, बीएमओ शिलाई डॉक्टर गौरव ने बताया कि सभी बच्चों की हालत खतरे से बाहर हैं। उपचार पूरा होने के बाद अस्पताल से सभी की छुट्टी दे दी जाएगी।

https://youtu.be/pUj5v18wwmw

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है