Covid-19 Update

59,059
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,204,179
मामले (भारत)
116,873,133
मामले (दुनिया)

जानिए, क्यों स्कूल ड्रेस व बैग सहित डीसी ऑफिस पहुंचे 100 छात्र, मचा हड़कंप

जानिए, क्यों स्कूल ड्रेस व बैग सहित डीसी ऑफिस पहुंचे 100 छात्र, मचा हड़कंप

- Advertisement -

मंडी। जिला के सीनियर सेकेंडरी स्कूल कोटली स्कूल के प्रधानाचार्य के तबादले को रुकवाने के लिए स्कूली बच्चों को हथियार बनाया जा रहा है। शुक्रवार को इस बात का खुलासा तब हुआ जब स्कूल के 6वीं से लेकर 12वीं कक्षा के 100 से अधिक बच्चे प्रधानाचार्य सुशील कुमार का तबादला रुकवाने के लिए डीसी मंडी के पास पहुंच गए। इतनी अधिक संख्या में बच्चों के डीसी कार्यालय में पहुंचने पर हड़कंप मच गया। बच्चे डीसी से मिले और अपनी बात रखी। डीसी मंडी ने भी बच्चों के साथ प्यार से बात करके उन्हें वापस जाने को कहा, लेकिन शिक्षा विभाग को इस मामले की जांच के आदेश दे दिए। आए हुए स्कूली बच्चों ने बताया कि वे अपनी मर्जी से परिजनों को जानकारी देकर आए हैं। इनका कहना है कि इन्हें सुशील कुमार इनके स्कूल में बतौर प्रधानाचार्य चाहिए और उनके तबादले को रोका जाए, नहीं तो यह सोमवार को फिर से मंडी आएंगे।

बच्चों को टैक्सियां करके मंडी भेजा गया

अब सवाल यहां पर यह है कि अगर बच्चे परिजनों को बताकर आए थे तो स्कूल ड्रेस में स्कूल बैग के साथ मंडी क्यों पहुंचे और परिजनों ने इन्हें अकेले कैसे आने दिया। बच्चों ने यह भी बताया कि वह बस के माध्यम से मंडी आए हैं, जबकि बच्चों को टैक्सियां करके मंडी भेजा गया था। जब इस बारे में कोटली स्कूल के एसएमसी प्रधान अरुण कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि किसी भी बच्चे के परिजन को इस बात की जानकारी नहीं थी। जब बच्चे स्कूल नहीं पहुंचे तभी इसका पता चला। बच्चे टैक्सियों के माध्यम से मंडी पहुंचाए गए और टैक्सी चालक यह बताने को तैयार नहीं हो रहे कि उन्हें किराया किसने दिया और मंडी बच्चों को ले जाने को किसने कहा। उन्होंने कहा कि बच्चों को राजनीतिक आधार पर इस्तेमाल किया गया है और इस बात की पूरी जांच होनी चाहिए। वहीं, मंडी बचाओ संघर्ष मोर्चा ने इस पूरे प्रकरण पर एफआईआर दर्ज करने की मांग उठाई है।

मामले की जांच के आदेश जारीः उपनिदेशक

जब इस बारे में उच्च शिक्षा उपनिदेशक अशोक शर्मा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि बच्चे अपनी मर्जी से नहीं आए हैं, इन्हें बहला-फुसला कर मंडी लाया गया है। इस पूरे मामले की जांच के आदेश जारी कर दिए गए हैं और जांच अधिकारी को दो दिनों में रिपोर्ट सौंपने को कहा गया। जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाही अमल में लाई जाएगी। बता दें कि प्रधानाचार्य सुशील कुमार मूलतः सरकाघाट के रहने वाले हैं और इन्होंने मंडी शहर के साथ नेला में अपना घर बना लिया है। कोटली में यह बीते करीब साढ़े तीन वर्षों से तैनात थे। सरकार ने इनका तबादला दुर्गम क्षेत्र ब्रयोगी के लिए किया है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है