Covid-19 Update

58,598
मामले (हिमाचल)
57,311
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,095,852
मामले (भारत)
114,171,879
मामले (दुनिया)

दृष्टिबाधितों के आंखें बनेंगे ये जूते, सामने आने वाली किसी भी चीज से होगा वाइब्रेशन

दृष्टिबाधितों के आंखें बनेंगे ये जूते, सामने आने वाली किसी भी चीज से होगा वाइब्रेशन

- Advertisement -

वी. कुमार/ मंडी। दृष्टिबाधित लोगों को सबसे ज्यादा दिक्कत सड़क पार करने में आती है। इसमें हादसे का जोखिम हमेशा बना रहता है।इसी को देखते हुए सोलन की चितकारा यूनिवर्सिटी के स्टूडेंटस ने नेत्रहीनों के लिए इंटेलिजेंट शूज बनाए हैं। स्टूडेंट्स का दावा है कि ये शूज दृष्टिबाधितों के लिए आंखों का काम करेंगे। इसमें ऐसे सेंसर लगे हैं कि नजदीक की कोई भी चीज से जूतों में वाइब्रेशन होने लगता है। इससे दृष्टिबाधितों को खतरे की जानकारी मिल जाती है।

यह है इंटेलीजेंट शूज के पीछे की कहानी

इंटेलिजेंट शूट के मॉडल को स्टूडेंटस ने आईआईटी मंडी में चल रहे तीसरे राज्यस्तरीय साइंस कांग्रेस में पेश किया है। इन जूतों के आविष्कार के पीछे की कहानी बड़ी दिलचस्प है। हुआ यूं कि यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट अजय और अभिषेक ने एक दृष्टिबाधित को सड़क पार करते वक्त गिरते हुए देख लिया। उसके बाद से दोनों के दिमाग में कुछ नया करने की ठन गई। 6 महीनों में कई मॉडल बनाए, लेकिन बेहतर नहीं बन पाए। फिर इंटेलिजेंट शूज का आइडिया दिमाग में आया।

इसलिए इंटेलीजेंट हैं ये जूते

शूज में आगे-पीछे और नीचे की तरफ सेंसर लगाए गए हैं। जैसे ही कोई चीज इनके ज्यादा नजदीक आएगी तो शूज में वाईब्रेशन होगी। इससे दृष्टिबाधित को इसका अहसास हो जाएगा। सीढि़यां उतरते वक्त जब जूता नीचे वाली सीढ़ी के नजदीक जाएगा तो वाईब्रेशन तेज हो जाएगी और यह पता चल जाएगा कि यहां पैर रखा जा सकता है।

इंटेलिजेंट शूज में सेंसर के साथ-साथ जीपीएस भी लगाया गया है। यह परिजनों को दृष्टिबाधित की लोकेशन बताता रहेगा। उसे ट्रैक करना आसान हो जाएगा। यदि दृष्टिबाधित किसी मुसीबत में फंस जाता है तो जूते में लगा इमर्जेंसी बटन दबाकर अपने नजदीकी परिजन को संदेश भी दे सकता है। जूते की बैटरी को चार्ज करने के लिए सोलर सिस्टम फिट किया गया है। इससे जैसे-जैसे जूता चलेगा, बैटरी भी चार्ज होती रहेगी। जूते की बैटरी से फोन भी जार्च किया जा सकेगा।

एक से बढ़कर एक स्मार्ट मॉडल

यूनिवर्सिटी की फैकल्टी ने पेपर और टूटपेस्ट के वेस्ट मेटिरियल से ईंट बनाई है। इसे परीक्षण में सही पाया गया है।वहीं एक स्टूडेंट पिंटू कुमार ने स्टन लॉक तैयार किया है। बाईक पर लगाने के बाद अगर कोई भी लॉक को तोड़ने की कोशिश करेगा तो उसमें से धुंआ निकलने लगेगा। इलेक्ट्रिक स्विच के लिए नितिन और मोक्ष ने शटर लॉक बनाया है। इस लॉक के लगने से आप बिना स्वीच बंद किए न तो प्लग इन कर सकते हैं और न ही आउट। तरूण ने स्मार्ट स्विच बनाया है, जिसकी मदद से आप दुनिया के किसी भी कोने में बैठकर अपने घर की बिजली ऑन या ऑफ कर सकते हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है