Covid-19 Update

2,05,017
मामले (हिमाचल)
2,00,571
मरीज ठीक हुए
3,497
मौत
31,341,507
मामले (भारत)
194,260,305
मामले (दुनिया)
×

मुश्किलः Department बताए कौन से रास्ते से जाएं बड़ा भंगाल

मुश्किलः Department बताए कौन से रास्ते से जाएं  बड़ा भंगाल

- Advertisement -

Bada Bhangal: धर्मशाला। बड़ा भंगाल को शिक्षित करने के लिए रास्ता बाधा बन गया है। शिक्षकों ने खुद विभाग गुहार लगाई है कि वह बड़ा भंगाल जाएं तो किस रास्ते से। शिक्षकों की शिकायत के बाद अब शिक्षा विभाग भी हरकत में आ गया है। बहरहाल, अब बैजनाथ प्रशासन ने क्षेत्र के पटवारी व पंचायत सचिव से रास्ते की स्थिति बारे रिपोर्ट मंगवाई है, रिपोर्ट के आधार पर ही तय हो पाएगा कि शिक्षक बड़ा भंगाल किस रास्ते से जाएंगे। वहीं बड़ा भंगाल पंचायत द्वारा बार-बार जारी किए जा रहे प्रस्तावों के चलते शिक्षकों ने शिक्षा विभाग से मांग की है कि उन्हें बताया जाए कि वे बड़ा भंगाल जाएं तो किस रास्ते से जाएं।

Bada Bhangal: शिक्षकों ने उठाई मांग, एक रास्ता जोखिम भरा, तो दूसरा देरी से है खुलता

जानकारी के अनुसार बड़ा भंगाल को जाने के लिए दो रास्ते हैं, एक थमसर पास जो कि देरी से खुलता है और वर्तमान में लोग होली-न्याग्रां मार्ग से आ-जा रहे हैं। होली-न्याग्रां वाला रास्ता स्लाइडिंग जोन है, जिसका एक किलोमीटर एरिया काफी खतरनाक है।


इस मार्ग से जाते समय पूर्व में भी दो मौतें हो चुकी हैं। ऐसे में अब शिक्षा विभाग भी असमंजस में है कि शिक्षकों को बड़ा भंगाल भेजे तो किस रास्ते से, वहीं बड़ा भंगाल में जाने वाले शिक्षक भी असमंजस में हैं, क्योंकि उनके बड़ा भंगाल न पहुंचने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है, वहीं रास्ता जोखिम भरा होने के चलते वह जान जोखिम में डालकर जाने से पहले विभाग के आदेशों का इंतजार कर रहे हैं। 

इसी कड़ी में शिक्षकों ने बैजनाथ प्रशासन से मिलकर यह आग्रह किया है कि उन्हें शिक्षा विभाग से यह आदेश दिलाए जाएं कि वह बड़ा भंगाल किस रास्ते से जाएं,जो कि सुरक्षित हो। गौरतलब है कि बड़ा भंगाल में छठी से दसवीं तक के 22 और प्राइमरी स्कूल में भी 22 बच्चे पढ़ते हैं तथा इन्हें पढ़ाने के लिए 4 शिक्षक नियुक्त किए गए हैं।

यह है मामला

बर्फबारी प्रभावित बड़ा भंगाल के लोग अक्टूबर-नवंबर माह में बीड़ का रुख करते हैं। बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो, इसके लिए बीड़ में स्कूल की व्यवस्था की गई है, जहां बड़ा भंगाल से आने वाले बच्चों की पढ़ाई होती है। 5 मई के बाद बच्चों के परिवार बड़ा भंगाल के लिए प्रस्थान कर जाते हैं।

जिसके चलते इस बार भी बच्चे अपने अभिभावकों के साथ बड़ा भंगाल पहुंच चुके हैं, लेकिन रास्ता खराब होने के चलते शिक्षक अभी तक बड़ा भंगाल नहीं पहुंच पाए हैं। पहले बड़ा भंगाल पंचायत ने प्रस्ताव पारित किया था कि रास्ता खराब है, लेकिन जब बच्चे अभिभावकों सहित बड़ा भंगाल पहुंच गए तो पंचायत ने प्रस्ताव पारित किया कि शिक्षक क्यों नहीं पहुंच रहे।  हालांकि अब पंचायत कह रही है कि रास्ता ठीक है, लेकिन शिक्षा विभाग शिक्षकों को खराब रास्ते से भेजने का कोई रिस्क नहीं लेना चाहता।

इस बारे में एसडीएम बैजनाथ सुनयना शर्मा का कहना है कि बच्चों की पढ़ाई एक अहम विषय है लेकिन शिक्षकों की सुरक्षा का मुद्दा भी अहम है। बड़ा भंगाल स्कूल के शिक्षक उनसे मिले हैं, जिनका कहना है कि शिक्षा विभाग से आदेश दिलाए जाएं कि हम किस रास्ते से बड़ा भंगाल जाएं। बड़ा भंगाल को जाने वाले रास्ते के संबंध में पंचायत सचिव व हल्का पटवारी से रिपोर्ट मांगी गई है। रिपोर्ट आने के बाद ही इस बारे में कोई निर्णय लिया जा सकता है।

सख्तीः किराया न चुकाने पर दुकान का आबंटन रद

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है