Covid-19 Update

1,51,597
मामले (हिमाचल)
1,11,621
मरीज ठीक हुए
2156
मौत
24,046,809
मामले (भारत)
161,846,155
मामले (दुनिया)
×

असमंजस : Students पढ़ें किससे, Teachers पढ़ाएं किसे

असमंजस : Students पढ़ें किससे, Teachers पढ़ाएं किसे

- Advertisement -

बच्चे अभिभावकों संग पहुंचे बड़ा भंगाल, अध्यापक बीड़ में फंसे

waiting: धर्मशाला। जिला कांगड़ा के दुर्गम क्षेत्र बड़ा भंगाल के स्कूली बच्चों और अध्यापकों के लिए बड़ी उलझन की स्थिति पैदा हो गयी है। स्कूली बच्चे जहां पर हैं वहां उन्हें पढ़ाने वाला कोई अध्यापक नहीं है और अध्यापक जहां पर हैं वहां पढ़ने वाला कोई नहीं है। मामला कुछ इस तरह है कि बड़ा भंगाल के लोग बर्फबारी के कारण सबकुछ अस्त-व्यस्त होने के चलते अक्टूबर माह के शुरू होते ही बीड़ का रुख कर लेते हैं।


बड़ा भंगाल के बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो इसके लिए बीड़ में स्कूल भी खोला गया है और बच्चों की पढ़ाई यहीं पर होती है। मई माह के पहले सप्ताह में यह बच्चे वापस बड़ा भंगाल चले जाते हैं और अक्टूबर तक बड़ा भंगाल में ही पढ़ते हैं। इस बार भी मई माह में 5 तारीख के बाद बच्चों को बड़ा भंगाल जाना था लेकिन रास्ता बंद होने के कारण इसमें दिक्कत आ रही थी इसलिए बच्चों को पढ़ाई बीड स्थित स्कूल में ही चलाई जा रही थी।


waiting: स्थिति का हल ढूंढने के लिए शिक्षा निदेशक को लिखा पत्र

इसी बीच बुधवार को बीड़ स्कूल में कोई भी बच्चा नहीं पहुंचा। अध्यापकों ने इसकी सूचना शिक्षा उपनिदेशक को दी। उपनिदेशक ने जब छानबीन की तो यह बात सामने आई कि बच्चे अपने अभिवावकों संग किसी अन्य रास्ते से होते हुए बड़ा भंगाल चले गए हैं। अब विभाग के सामने दिक्कत इस बात की है कि वहां अध्यापकों को कैसे भेजा जाए। उच्च शिक्षा उपनिदेशक जिला कांगड़ा केके गुप्ता ने इस बारे में बताया कि बड़ा भंगाल जाने के लिए जो प्रमुख रास्ता है वह लगातार हो रहे भूस्खलन के कारण असुरक्षित है और अन्य रास्ते भी खतरे से खाली नहीं हैं। बच्चे बीड़ में ही पढ़ रहे थे और पता चला है कि वह अपने अभिभावकों संग बड़ा भंगाल चले गए हैं। ऐसे में बीड़ स्कूल में कोई बच्चा नहीं पहुंच रहा।

कक्षा 6 से 10 तक 22 बच्चे पढ़ते हैं और प्राइमरी विंग में भी तकरीबन इतने ही बच्चे हैं। गुप्ता का कहना है कि बच्चों को तो उनके अभिवावक अपनी जिम्मेदारी पर ले गए हैं लेकिन वह अध्यापकों को खतरनाक रास्ते से गुजरने के निर्देश जारी नहीं कर सकते। बड़ा भंगाल पंचायत ने भी यह प्रस्ताव पारित किया है कि बन्द रास्ते की वजह से वहां आना खतरे से खाली नहीं है। अभिभावक तो बच्चों को ले गए हैं लेकिन अध्यापक बीड़ में ही हैं इसलिए उन्होंने शिक्षा निदेशक को समस्या के समाधान के लिए पत्र लिखा है।

खुशखबरी : 58 और कॉलेजों में शुरू होगी संगीत की पढ़ाई

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है