Expand

सुक्खू का तंजः तो क्या पार्टी अध्यक्ष दरवाजा खोलकर बैठे

सुक्खू का तंजः तो क्या पार्टी अध्यक्ष दरवाजा खोलकर बैठे

- Advertisement -

सचिव नहीं हैं बोझ, सरकार से नहीं मिलता फंड, सभी नेताओं के समर्थक एडजस्ट

लेखराज धरटा/ शिमला। प्रदेश कांग्रेस में भारी-भरकम सचिवों की तैनाती को लेकर चल रहे विवाद में पार्टी अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने अपनी ही सरकार पर तंज कसते हुए कहा है कि सचिव,सरकार पर बोझ नहीं है। उन्होंने स्पष्ट कहा है कि सरकार सचिवों को काम के बदले में कोई फंड नहीं देती है।सुक्खू ने चल रहे विवाद के बीच कहा है कि सचिव अपनी जेब से खर्च कर संगठन को मजबूत कर रहे हैं, यहां तक कि वे टीए-डीए भी नहीं लेते। हिमाचल अभी अभी से बातचीत में सुक्खू ने कहा कि सीएम वीरभद्र सिंह को अगर कोई नाराजगी है तो वह उनसे बातचीत करेंगे।cm
सचिवों के इस्तीफे को लेकर वे बता देना चाहते हैं कि पार्टी अध्यक्ष जब कांग्रेस मुख्यालय में अपने कार्यालय में बैठते हैं तो सचिव वहीं पर आकर इस्तीफ़ा देंगे। इसमें बंद कमरे की बात कहां से आ गई, क्या किसी भी पार्टी अध्यक्ष या नेता के कमरे का दरवाजा उस समय खुला रहता है, जब वे कार्यालय में बैठा हो। वीरभद्र सिंह के तल्ख तेवरों के बीच सुक्खू ने भी उन्हीं की भाषा में जवाब देते हुए कहा कि सचिवों की नियुक्ति हाईकमान की स्वीकृति से हुई है। सभी नेताओं के समर्थकों को पार्टी में जगह मिली है। इतना सब कहने के बाद सुक्खू यह भी कहते हैं कि संगठन व सरकार में बेहतर तालमेल है, सभी मिशन 2017 को लेकर काम कर रहे हैं।

प्रकरण अब खत्म हो चुका है

congrsssइस बीच सचिव पद से इस्तीफ़ा देने के बाद सीएम वीरभद्र सिंह से मिल चुकी कुसुम वर्मा ने कहा कि ये प्रकरण अब खत्म हो चुका है। अब वे कुछ नहीं कहना चाहती, बंद कमरे में इस्तीफ़ा क्या होता है, वे बीते 28 साल से पार्टी के लिए कार्य कर रही हैं। इस तरह की निराधार बातों को न उछाला जाए तो ही बेहतर है। याद रहे कि सीएम वीरभद्र सिंह प्रदेश कांग्रेस में भारी-भरकम सचिवों की तैनाती को लेकर खफा चल रहे हैं, वह कई मर्तबा इस विषय को सार्वजनिक तौर पर उठा चुके हैं। वह तो प्रदेश कांग्रेस की कार्यप्रणाली पर ही अंगुली उठाने लग पड़े हैं। हालांकि,सुक्खू अभी तक इस मसले पर चुप ही थे पर आज उनके सब्र का बांध टूटा तो उन्होंने अपनी ही प्रदेश सरकार पर तंज कस डाला। सुक्खू को पार्टी अध्यक्ष पद से हटाए जाने की चल रही इस मुहिम के तहत ही इस तरह की बातें रोज चल रही हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है