Covid-19 Update

3,12, 281
मामले (हिमाचल)
3, 07, 956
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44,601,934
मामले (भारत)
624,506,140
मामले (दुनिया)

SC की अहम टिप्पणी, समलैंगिक रिश्ते और लिव-इन रिलेशनशिप भी परिवार

2018 में समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर किया गया था

SC की अहम टिप्पणी, समलैंगिक रिश्ते और लिव-इन रिलेशनशिप भी परिवार

- Advertisement -

लिव-इन रिलेशनशिप और समलैंगिक रिश्ते पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अहम टिप्पणी की है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पारिवारिक संबंध घरेलू, अविवाहित सहजीवन या समलैंगिक रिश्ते (Homosexual Relationships) के रूप में भी हो सकते हैं। ये रिश्ते भी कानून के तहत सुरक्षा के हकदार हैं।

ये भी पढ़ें-सुप्रीम कोर्ट ने तीन जजों की पीठ के पास भेजा केस, कहा- व्यापक सुनवाई की जरूरत

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एक इकाई के तौर पर परिवार की असामान्य अभिव्यक्ति उतनी ही वास्तविक है, जितनी की परिवार को लेकर पारंपरिक व्यवस्था। कोर्ट ने कहा कि समाज और कानून में परिवार की अवधारणा की प्रमुख समझ यह है कि इसमें एक मां और एक पिता और उनके बच्चों के साथ एक एकल, अपरिवर्तनीय इकाई होती है। जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और जस्टिस ए एस बोपन्ना की पीठ ने एक आदेश में कहा कि ये धारणा दोनों की उपेक्षा रहती है। कई परिस्थितियां जो किसी के पारिवारिक ढांचे में बदलाव ला सकती हैं। ये तथ्य कि कई परिवार इस अपेक्षा के अनुरूप नहीं हैं वो पारिवारिक संबंध घरेलू, अविवाहित सहजीवन या समलैंगिक संबंधों का रूप ले सकते हैं।

गौरतलब है कि साल 2018 में समलैंगिकता को शीर्ष अदालत की ओर से अपराध की श्रेणी से बाहर किया गया था। इसके बाद से ही कार्यकर्ता एलजीबीटी के लोगों की शादी और सिविल यूनियन को मान्यता देने के साथ-साथ लिव-इन जोड़ों को गोद लेने की अनुमति देने के मुद्दे को उठा रहे हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है