Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

Surajkund मेला Himachali उत्पादों को दिलाएगा नई पहचान : कानून मंत्री से मिले जयराम

Surajkund मेला Himachali उत्पादों को दिलाएगा नई पहचान : कानून मंत्री से मिले जयराम

- Advertisement -

नई दिल्ली। हिमाचल के सीएम जयराम ठाकुर (Himachal CM Jai Ram Thakur) ने सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय कला मेले (Surajkund Mela) पर सभी को हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं। हिमाचल 24 वर्ष बाद इस मेले में थीम स्टेट के रूप में भाग ले रहा है। इसी के चलते जयराम ने कहा है कि आशा करता हूं कि यह मेला हिमाचल के उत्पादों को विश्व स्तर पर नई पहचान दिलाने में सहायक सिद्ध होगा। प्रदेश की सांस्कृतिक धरोहर, हस्तशिल्प और पर्यटन की संभावना को अंतरराष्ट्रीय स्तर के मंच पर प्रदर्शित करने के लिए हरियाणा के सूरजकुंड में आयोजित किए जाने वाले 34वें सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय कला मेला पहली से 16 फरवरी तक आयोजित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: Jai Ram बोले, दिल्ली में होगी BJP की ऐतिहासिक जीत, जनता उत्साहित

हिमाचल प्रदेश पर्यटन विभाग (Himachal Pradesh Tourism Department) ने रामबाग मनाली गेट का स्थाई प्रतिरूप, सराहन के भीमाकाली मंदिर का धरोहर स्मारक, हिमाचली की पारंपरिक शैली का एक अपना घर और अन्य पारंपरिक रूप से निर्मित हिमाचली परंपरा को दर्शाते पांच अस्थाई गेट क्राफ्ट मेला के प्रत्येक प्रवेश द्वार पर बनाए हैं। निर्मित गेट छिन्नमस्तिका चिंतपूर्णी (ऊना), माता श्री ज्वाला जी, चिंदी देवी करसोग (मंडी), साक्या तंग्यूड मॉनेस्ट्री शैली और चंबा सहस्त्राब्दी गेट पर आधारित होंगे। चार फरवरी को हिमाचली सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया जाएगा और सूरजकुंड मेला ग्राउंड के चौपाल में हिमाचल प्रदेश के सांस्कृतिक दल प्रस्तुति देंगे। जयराम ठाकुर पहली फरवरी को मेले का शुभारम्भ करेंगे और राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय 16 फरवरी को इसके समापन समारोह की अध्यक्षता करेंगे।

इसी बीच सीएम जयराम ठाकुर ने आज नई दिल्ली में कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) से भेंट की और उनसे प्रदेश के दूर-दराज के क्षेत्रों में बेहतर संचार सेवाएं उपलब्ध करवाने का आग्रह किया। सीएम ने केन्द्रीय मंत्री से प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र के लिए निवेश आकर्षित करने में सहायता करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि सोलन जिला के वाकनाघाट में 300 बीघा भूमि उपलब्ध है, जहां सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र को विकसित किया जा सकता है। उन्होंने प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी में उत्कृष्ट केन्द्र तथा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के लिए निवेश आकर्षित करने में सहयोग का आग्रह भी किया।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है