Covid-19 Update

2,17,403
मामले (हिमाचल)
2,12,033
मरीज ठीक हुए
3,639
मौत
33,529,986
मामले (भारत)
230,045,673
मामले (दुनिया)

अफगान सरकार के हाथ से कंधार भी फिसला, इस शहर से भारत का है पुराना राब्ता

तालिबान ने अफगानिस्तान के कंधार पर जमा लिया है अपना कब्जा

अफगान सरकार के हाथ से कंधार भी फिसला, इस शहर से भारत का है पुराना राब्ता

- Advertisement -

नई दिल्ली। तालिबान ने शुक्रवार को एक बार फिर अफगानिस्तान सरकार को झटका दिया है। वह अफगानिस्तान के दूसरे सबसे बड़े शहर कंधार पर काबिज हो चुका है। जिससे काबुल सरकार औंधे मुंह गिर गई है। कंधार पर कब्जा तालिबान की एक बड़ी जीत मानी जा रही है। बीबीसी ने बताया कि यह शहर कभी तालिबान का गढ़ हुआ करता था। कंधार एक प्रमुख व्यापार केंद्र के रूप में और रणनीतिक रूप से बेहद महत्वपूर्ण है। कंधार गुरुवार को हेरात और गजनी के बाद अफगान सरकार से दूर जाने वाली नवीनतम प्रांतीय राजधानी है। मालूम हो कि साल 1999 में नेपाल के काठमांडू से उड़ान भरने वाली एयर इंडिया की फ्लाइट आईसी 184 को हाईजैक कर कंधार लाए थे। जिसके बाद यात्रियों को छोड़ने के एवज में आतंकियों ने तीन दुर्दांत आतंकवादियों को छुड़ाया था। जिसमें जैश सरगना मसूद अजहर, उमर सईद और अहमद जरगर शामिल थे।

यह भी पढ़ें: अमेरिकी खुफिया एंजेसी के अधिकारी का दावा, अगले महीने तक काबुल पर तालिबान का होगा कब्जा

अमेरिका ने दोबारा भेजे 3000 सैनिक

इस बीच, अमेरिका ने कहा कि वह अमेरिकी दूतावास से कर्मचारियों को निकालने में मदद के लिए करीब 3,000 सैनिकों को वापस अफगानिस्तान भेज रहा है। अमेरिका ने कहा कि वह विशेष उड़ानों में दूतावास के कर्मचारियों की एक महत्वपूर्ण संख्या को निकालने में मदद करने के लिए काबुल में हवाई अड्डे पर सैनिकों को भेज रहा है। यूके ने कहा कि वह देश छोड़ने वाले ब्रिटिश नागरिकों को सहायता प्रदान करने के लिए अल्पकालिक आधार पर लगभग 600 सैनिकों को भी तैनात कर रहा है।

फिर बढ़ा तालिबान का आतंक

बता दें कि 20 साल के सैन्य अभियानों के बाद अमेरिका और अन्य विदेशी सैनिकों के हटने के बाद विद्रोही तेजी से आगे बढ़े हैं, नए क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया है। गुरुवार को तालिबान ने अफगानिस्तान के कुछ सबसे महत्वपूर्ण शहरों पर कब्जा कर लिया गया और हेरात, गजनी और काला-ए-नवा तालिबान के नियंत्रण में आ गया। तालिबान के एक प्रवक्ता ने यह भी घोषणा की कि कंधार पूरी तरह से जीत लिया गया है। सूत्रों ने बीबीसी को बताया है कि हेलमंद प्रांत की राजधानी दक्षिणी शहर लश्कर गाह को भी आतंकियों ने अपने कब्जे में ले लिया है, हालांकि इसकी भी पुष्टि नहीं हुई है।

तालिबान देश के अधिकांश हिस्सों पर काबिज

तालिबान अब अधिकांश उत्तरी अफगानिस्तान और देश की लगभग एक तिहाई क्षेत्रीय राजधानियों को नियंत्रित कर रहा है। इस बात की चिंता बढ़ती जा रही है कि आतंकवादी राजधानी काबुल की ओर अपनी बढ़ना जारी रखेंगे। रिपोर्ट में कहा गया है कि बुधवार को तालिबान ने कंधार की केंद्रीय जेल में सेंध लगाई और गुरुवार को सोशल मीडिया पर कथित तौर पर शहर के केंद्र में विद्रोहियों को दिखाया गया। कंधार अपने अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, इसके कृषि और औद्योगिक उत्पादन और देश के मुख्य व्यापारिक केंद्रों में से एक के रूप में अपनी स्थिति के कारण रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण माना जाता है।

आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है