Covid-19 Update

58,598
मामले (हिमाचल)
57,311
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,095,852
मामले (भारत)
114,171,879
मामले (दुनिया)

तारूवाला नाबालिग मौत मामला : इंसाफ न मिला तो लोग करेंगे चक्का Jam

तारूवाला नाबालिग मौत मामला : इंसाफ न मिला तो लोग करेंगे चक्का Jam

- Advertisement -

सचिन ओबरॉय/पांवटा साहिब। उपमंडल में बेटियों की सुरक्षा पर सवाल खड़े हो गए हैं। यहां लड़कियों की सुरक्षा को लेकर पुलिस प्रशासन गंभीर नजर नहीं आ रहा। ऐसे में मासूमों पर निशाना साधे बैठे अपराधी बेखौफ अपने नीच इरादों को अंजाम दे रहे हैं। बेटियों की इज्जत के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है और कईयों की सांसे ही छीन ली गई हैं। तारूवाला की 16 वर्षीय नाबालिग के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है। नाबालिग 16 जनवरी को लापता हुई थी। परिजनों ने पुलिस से लड़की को ढूंढने की बार-बार गुहार लगाई, लेकिन हर बार की तरह मामले में सिर्फ लीपापोती हुई। 10 दिन बाद 26 जनवरी को नाबालिक मृत अवस्था में मिली। मामले की जांच की बात तो कही जा रही है लेकिन दो सप्ताह बाद भी पुलिस के हाथ बिल्कुल खाली हैं। परिजन दो स्थानीय युवकों पर हत्या या आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप लगा रहे हैं। आरोपियों में से एक नाबालिग है।
परिजनों के आरोपों के पीछे की वजह सीसीटीवी फुटेज है। नाबालिग का शव पांवटा गुरुद्वारे से कुछ दूर यमुना नदी में मिला थी और 16 जनवरी के सीसीटीवी फुटेज में दोनों युवक पीड़िता के साथ यमुना नदी की ओर जाते साफ नजर आ रहे हैं। सीसीटीवी फुटेज में तीनों जाते हुए तो नजर आ रहे हैं लेकिन आते हुए दोनों आरोपियों के साथ नाबालिग नजर नहीं आ रही है। परिजनों के हिसाब से मामला शीशे की तरह साफ है, लेकिन पुलिस अभी तक युवकों से इसका राज नहीं उगलवा पाई है। वहीं, पुलिस की दलील यह है कि आरोपी नाबालिग होने वजह से उसने सख्ती पूछताछ नहीं की जा सकती। उधर, नाबालिग के परिजनों का कहना है कि यदि उन्हे जल्द इंसाफ नहीं मिला तो आंदोलन होगा। लोग सड़कों पर उतरेंगे और चक्का जाम करेंगे।
पुलिस की कार्यप्रणाली से नाराज परिजनों सहित लोगों का एक दल डीएसपी पांवटा प्रमोद चौहान से मिला और अपनी बात कही। लोगों ने पुलिस अधिकारी से स्पष्ट किया कि लोग अभी तक की जांच से कतई संतुष्ट नहीं हैं। सीसीटीवी में मामला स्पष्ट नजर आने के बाद भी पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी है। परिजनों को कहना है कि पुलिस ने मामला सामने आने और शिकायत होने के बाद से जांच में ढिलाई बरत रही है। वहीं, डीएसपी पांवटा प्रमोद चौहान ने कहा कि मामला गंभीर है और परिजनों व क्षेत्र के लोगों द्वारा सवाल उठाया जाना भी जाहिर सी बात है, लेकिन पुलिस आरोपियों के नाबालिग होने की वजह से न तो उन्हें गिरफ्तार कर पा रही है और न ही उनसे सख्ती से पूछताछ कर पा रही है। लड़कों द्वारा पुलिस को दिए बयान भी मामले को भटकाने वाले हैं। ऐसे में अब पुलिस लड़की की पोस्टमार्टम व फॉरेंसिक जांच की रिपोर्ट आने का इंतजार कर रही है। पांवटा डीएसपी ने बताया कि पुलिस मामले का सुलझाने का पूरा प्रयास कर रही है, लेकिन मामले की कुछ कड़ियां पोस्टमार्टम व फॉरेंसिक जांच की रिपोर्ट आने के बाद ही खुलेंगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है