Covid-19 Update

1,99,740
मामले (हिमाचल)
1,93,403
मरीज ठीक हुए
3,411
मौत
29,762,793
मामले (भारत)
178,254,136
मामले (दुनिया)
×

ग्रामीण क्षेत्रों को प्लानिंग व साडा एरिया से बाहर करने के लिए होंगी जन सुनवाई

ग्रामीण क्षेत्रों को प्लानिंग व साडा एरिया से बाहर करने के लिए होंगी जन सुनवाई

- Advertisement -

शिमला। सचिवालय में सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर (Mahendra Singh Thakur) की अध्यक्षता में टीसीपी कैबिनेट उप समिति ( TCP cabinet sub committee )की बैठक आयोजित की गई। बैठक में प्लानिंग एरिया व साडा क्षेत्र में शामिल ग्रामीण क्षेत्रों को बाहर करने को लेकर चर्चा की गई, जिसमें समिति ने प्लानिंग व साडा क्षेत्र में शामिल किए गए ग्रामीण क्षेत्रों में खुली जन सुनवाई करने का निर्णय लिया है।


यह भी पढ़ें: जयराम ने एमसी शिमला की तीन गवर्नमेंट टू सिटीजन सेवाओं का किया आगाज


टीसीपी समिति के अध्यक्ष महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि समिति के समक्ष लगभग 120 प्रस्ताव ग्रामीण क्षेत्रों से प्लानिंग एरिया व साडा क्षेत्र (Planning Area and Sada Area) से बाहर करने को लेकर आए हैं। उन्होंने कहा कि प्लानिंग एरिया में शामिल ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों की शिकायतों को सुना जाएगा व लोगों की शिकायतों व सुझावों के आधार पर समिति अपने सिफारिशें तैयार करेगी, जिसके लिए तीन समितियों का गठन किया गया है।

जिला शिमला में शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, कुल्लू मनाली में वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर व मंडी जिला में सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर लोगों की शिकायतों (Complaints) को सुनेंगे, जिसके लिए मंडी जिला का जन सुनवाई कार्यक्रम भी निर्धारित किया गया है। आगामी 10 सितंबर को मंडी जिला के विभिन्न स्थानों तल्याहड़, नेला व नगर परिषद मंडी, नेरचौक, धनोटू सुंदरनगर व सरकाघाट के डबरोग में लोगों की शिकायतें सुनेंगे।

बैठक में समिति के सदस्यों ने सुझाव दिया कि प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर एनजीटी कानून के बनने से पहले बने सभी ऐसे भवनों, जिसमें एटीक व पार्किंग बनी हुई है और टीसीपी एक्ट उल्लघंना के दायरे में आते हैं, उन्हें भी नियमित किया जा सकता है। इसके अलावा समिति के सदस्यों ने सुझाव (suggestion) दिया कि शिमला (Shimla) जैसे शहरों में बनने वाले भवनों की ऊंचाई 21 मीटर निर्धारित कर दी जाए, जिसमें एटीक व बेसमेंट भी शामिल किया जाए।

इसके अलावा सदस्यों ने समिति के समक्ष प्रस्ताव रखा है कि हरित एरिया में शामिल लोगों की भूमि का सरकार अधिग्रहण करें या ऐसे लोगों को जिनकी भूमि हरित एरिया में चिन्हित हुई है और उन्हें मकान बनाने में कठिनाई हो रही है, उन्हें दूसरी जगह भूमि प्रदान की जाए, ताकि व्यक्ति आसानी से अपना मकान बना सकें। इस मौके पर विधायक सुखविंदर सिंह सुक्खू, अनिरूद्ध सिंह, सचिव टीसीपी सी पालरासू सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है