Covid-19 Update

2,05,017
मामले (हिमाचल)
2,00,571
मरीज ठीक हुए
3,497
मौत
31,341,507
मामले (भारत)
194,260,305
मामले (दुनिया)
×

स्कूल ड्रेस के जूते नहीं पहने तो चोटी से बांध दी चप्पलें

स्कूल ड्रेस के जूते नहीं पहने तो चोटी से बांध दी चप्पलें

- Advertisement -

बल्लभगढ़। स्कूलों में वर्दी पहनना जरूरी होता है यह सभी जानते हैं। अगर कोई बच्चा ऐसा नहीं करता तो उसे छोटी- मोटी सजा मिलती है पर क्या कभी ऐसा हुआ है कि स्कूल में जूते न पहन कर न आने पर टीचर ने बच्चियों की चोटी में चप्पलें  बांध दी हो। मामला बल्लभगढ़ के पास सागरपुर गांव स्थित प्राइमरी स्कूल का है। इस स्कूल में एक युवती बतौर गेस्ट टीचर तैनात है।यह युवती जब गत दिनों पहली कक्षा के बच्चों की वर्दी व जूते चैक कर रही थी तो कक्षा की चार बच्चियों ने जूते नहीं पहने थे, वे सभी चप्पल पहन कर आई थी। इस पर टीचर ने चारों की चप्पलें उतार कर सिर में रिब्बन से बांधते हुए कहा कि तुम्हें शिक्षा विभाग की ओर से जूते खरीदने के लिए 450 रुपए मिलते हैं तो जूते क्यों नहीं पहने। आरोप है कि टीचर ने इसके बाद बच्चियों की पिटाई भी की। 
छुट्टी के बाद जब बच्चियां घर पहुंची तो उन्होंने अपने अभिभावकों को पूरी बात बताई। इस पर सभी अभिभावक टीचर के घर पहुंचे और उनसे बात की। टीचर ने अपनी सफाई में  कि उसने चोटी से चप्पल नहीं बांधी पर 450 रुपए वाली बात जरूर कही थी। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच में सुलह हो गई। इस मामले में परिजनों ने स्कूल की प्रिंसिपल से भी बात की। प्रिंसिपल का कहना था कि उन्होंने इस बात की पड़ताल की है। टीचर ने बच्चियों के साथ ऐसा कुछ भी नहीं किया है। उधर जिला शिक्षा अधिकारी सतेंद्र कौर वर्मा का कहना है कि स्टूडेंट्स की चोटी में चप्पल बांधने की जानकारी उन्हें नहीं है। चर्चा है तो मामले का पता लगाया जाएगा। अगर कोई दोषी पाया जाता है तो कार्रवाई जरूर होगी। जबकि  एसडीएम बल्लभगढ़ राजेश कुमार का कहना है कि उनके संज्ञान में ऐसा कोई मामला नहीं है और न ही कोई शिकायत आई है।  अगर कोई शिकायत करता है तो कार्रवाई जरूर होगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है