Covid-19 Update

2,04,887
मामले (हिमाचल)
2,00,481
मरीज ठीक हुए
3,495
मौत
31,329,005
मामले (भारत)
193,701,849
मामले (दुनिया)
×

अब CCTV की निगरानी में रहेंगे मास्टर जी और बच्चे

अब CCTV की निगरानी में रहेंगे मास्टर जी और बच्चे

- Advertisement -

 

Teacher Student : मंडी। मास्टर जी और बच्चे स्कूल में क्या कर रहे हैं इसके लिए अब अधिकारियों को औचक निरीक्षण की जरूरत नहीं रहेगी क्योंकि स्कूलों को अब आधुनिक तकनीक के साथ जोड़कर वहां पर सीसीटीवी लगाने का क्रम शुरू हो चुका है। वहीं शिक्षा विभाग गुरुजनों की उपस्थिति सही समय पर दर्ज करवाने के लिए बायोमेट्रिक मशीनें भी लगाने को कहा गया है। इसकी मतलब यह हुआ कि आने वाले कुछ समय में शिक्षा विभाग के अधिकारियों को स्कूलों का औचक निरीक्षण करने की आवश्यकता नहीं रहेगी क्योंकि आधुनिक तकनीक का सहारा लेते हुए हिमाचल प्रदेश का शिक्षा विभाग अब हाईटेक हो रहा है। शिक्षा विभाग ने सरकारी स्कूलों की निगरानी करने के लिए सीसीटीवी लगाने का क्रम शुरू कर दिया है।


Teacher Student : मंडी के 26 सरकारी स्कूलों में सीसीटीवी

हाल ही में संपन्न हुई वार्षिक परिक्षाओं के दौरान नकल को रोकने के लिए मंडी जिला के 26 सरकारी स्कूलों में सीसीटीवी स्थापित किए गए। इससे जहां नकल रोकने में मदद मिली वहीं पूरे स्कूल की शिक्षा बोर्ड के अधिकारी निगरानी भी करते रहे। अब यह कैमरे पूर्ण रूप से स्कूलों में ही स्थापित कर दिए गए हैं और इन स्कूलों की शिक्षा विभाग ने निगरानी रखना भी शुरू कर दिया है। इन स्कूलों की निगरानी सीधे धर्मशाला स्थित शिक्षा बोर्ड के कार्यालय में हो रही है।

सर्व शिक्षा अभियान की जिला परियोजना अधिकारी हेमंत शर्मा ने बताया कि मंडी जिला के बाकी स्कूलों में सीसीटीवी कैमरे लगाने की प्रपोजल सरकार को भेज दी गई है। इसके साथ ही शिक्षा विभाग ने गुरूजनों और अन्य स्टाफ को स्कूलों में सही समय पर पहुंचाने का बंदोबस्त भी कर दिया है और इसके लिए सहारा लिया जा रहा है बायोमेट्रिक मशीनों का।

मंडी के 137 सरकारी स्कूलों में बायोमेट्रिक मशीनें

मंडी जिला के 137 सरकारी स्कूलों में बायोमेट्रिक मशीनें लगा दी गई हैं और इन स्कूलों में अब इसी पद्दति से गुरूजनों और अन्य स्टाफ को हाजरी लगानी पड़ रही है। इसके चलते स्कूल में लेट पहुंचने वाले गुरुओं पर शिकंजा कसने में मदद मिल रही है। बता दें कि हिमाचल प्रदेश के सरकारी स्कूलों के प्रति अभिभावकों का मोह कम होता जा रहा है और इसका कारण स्कूलों में अव्यवस्थाओं से है।

यही कारण है कि अब शिक्षा विभाग स्कूलों में नयी और आधुनिक तकनीकों का सहारा लेकर शिक्षा के स्तर को सुधारने की पूरी जदोजहद में है।

यह भी पढ़ें..शराब ठेके के खिलाफ मुखरः महिलाओं ने ताला जड़ दी Warning

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है