Covid-19 Update

58,777
मामले (हिमाचल)
57,347
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,122,986
मामले (भारत)
114,822,832
मामले (दुनिया)

मद्रास हाई कोर्ट का सुझाव- सहमति से संबंध बनाने की उम्र 18 की बजाय 16 की जाए

मद्रास हाई कोर्ट का सुझाव- सहमति से संबंध बनाने की उम्र 18 की बजाय 16 की जाए

- Advertisement -

 

नई दिल्ली। मद्रास हाईकोर्ट (Madras High Court) ने सुझाव दिया कि टीनेजर के बीच सहमति से संबंध (physical relation with consent) बनाने की उम्र को 18 से घटाकर 16 कर दिया जाना चाहिए। कोर्ट ने किशोर या किशोरावस्था से थोड़ा अधिक उम्र के लड़के-लड़की के बीच यौन संबंधों को कानूनी अमलीजामा पहनाने की वकालत की है। कोर्ट ने कहा है कि 16 से 18 वर्ष की उम्र के युवाओं के आपसी सहमति से बनाए गए सेक्स संबंध को पोक्सो एक्ट (Poxo act) के तहत नहीं लाया जाना चाहिए। जस्टिस वी पतिबन ने शुक्रवार को साबरी नामक अभियुक्त की याचिका पर सुनवाई के दौरान यह सुझाव दिया।

यह भी पढ़ें: रेलवे स्टेशन के क्लीनिक में 20 साल की महिला ने दिया बेटे को जन्म, 1 रुपए लगी फीस

जस्टिस वी. पतिबन ने सबरी नाम के व्यक्ति की उस याचिका पर सुनवाई करते हुए शुक्रवार को यह सुझाव दिया जिसमें उसने पॉक्सो कानून के तहत नमक्कल की एक महिला अदालत द्वारा उसे सुनाई गई 10 साल की सजा को चुनौती दी थी। याचिकाकर्ता पर 17 साल की लड़की के अपहरण और यौन हमले का आरोप है। कानून में संशोधन का सुझाव देते हुए जज ने कहा, ’16 साल की उम्र के बाद आपसी सहमति से बनाए गए यौन संबंधों या शारीरिक संपर्कों या इससे जुड़े कृत्यों को पॉक्सो कानून के कठोर प्रावधानों से बाहर किया जा सकता है और इस तरह के यौन हमले की सुनवाई ज्यादा उदार प्रावधान के तहत हो सकती है, जिन्हें कानून में शामिल किया जा सकता है।’

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है