Covid-19 Update

2,00,832
मामले (हिमाचल)
1,95,254
मरीज ठीक हुए
3,440
मौत
30,028,709
मामले (भारत)
179,981,557
मामले (दुनिया)
×

नवजात के वेट और हाइट से पता चलेगा दिल की बीमारी के खतरे के बारे में, जानें

नवजात के वेट और हाइट से पता चलेगा दिल की बीमारी के खतरे के बारे में, जानें

- Advertisement -

नई दिल्ली। आज कल बच्चों (Child) के बीच दिल से जुड़ी बीमारी (Heart disease) का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ गया है। आज के समय में बच्चे बहुत ज्यादा अनहेल्दी (Unhealthy) हो रहे हैं या फिर उनको कोई न कोई परेशानी हो रही है। वहीं इन सभी बातों का पता लगाने में बहुत ज्यादा समय लग जाया करता है और बाद में बच्चे का बीमार होना और खास कर दिल की बीमारी हो जाना बहुत ही ज्यादा परेशानी का कारण बन जाता है। यह मां बाप के लिए किसी दुखों के पहाड़ से कम नही है की उनके बच्चे को कोई गंभीर बीमारी हो।इसी सिलसिले में आज हम आपसे यदि यह कहें की की आपके बच्चे का बर्थ वेट और आपके बच्चे की हाइट से आप उनके हेल्थ के भविषा की बात जान सकते हैं तो आप क्या कहेंगे ? जी हां यह बात अब मुमकिन हो सकती है।

यह भी पढ़ें :-भारतीय वैज्ञानिकों ने खोजा टीबी का 100 फीसदी इलाज, बचेंगी लाखों जिंदगियां

दरअसल हाल ही में इस विषय पर कुछ शोध हुए हैं जिनको लेकर यह बात कही जा सकती है की ऐसा मुमकिन है की आप उनके बर्थ वेट और हाइट (Birth weight and height) से इस बात का पता लगा सकते हैं की उनका भविष्य कैसा होगा। आपको भले ही इस बात पर यकीन ना हो लेकिन ये सच है कि बच्चे के जन्म लेते ही उसे भविष्य में सेहत से जुड़ी कौन-कौन सी और किस तरह की बीमारियां हो सकती हैं इसके बारे में पता लगाया जा सकता है। हाल ही में हुई एक नई स्टडी (Study) में इस बात पर फोकस किया गया है कि कैसे नवजात (Newborn Baby) के बर्थ वेट यानी जन्म के समय के वजन और हाइट के जरिए यह पता लगाया जा सकता है कि भविष्य में उसे दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा है या नहीं।


बच्चे के जन्म के वक्त का वजन और उसकी हाइट भ्रूण के संपूर्ण विकास के बारे में पूरी जानकारी देता है। बॉडी मास इंडेक्स यानी बीएमआई जिसमें हाइट और वेट दोनों शामिल होता है के जरिए भ्रूण के विकास की सटीक जानकारी मिल जाती है, जिससे भविष्य में बच्चे की सेहत कैसी रहेगी इस बारे में पता लगाया जा सकता है। स्टडी में पता चला कि अगर जन्म के वक्त बच्चे का बीएमआई कम था तो इससे दिल के पंपिंग चेंबर का साइज बढ़ने का खतरा था जिससे भविष्य में कार्डिवस्क्युलर यानी दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा कई गुना अधिक होता है।


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है