×

गंगोत्री मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद, भोग मूर्ति डोली यात्रा के साथ मुखबा रवाना

गंगोत्री मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद, भोग मूर्ति डोली यात्रा के साथ मुखबा रवाना

- Advertisement -

देहरादून। गंगोत्री मंदिर के कपाट आज से शीतकाल के लिए बंद हो गए हैं। अन्नकूट के पावन पर्व पर मंदिर के कपाट बंद करने की प्रक्रिया में सबसे पहले मां गंगा का मुकुट उतारा गया। इसके बाद निर्वाण दर्शन किए गए। वेद मंत्रों के साथ मां की मूर्ति का महाभिषेक कर विशेष पूजा-अर्चना की गई। पूजा के बाद 11.40 बजे मंदिर के कपाट बंद कर दिए गए। इसके बाद 11.55 बजे गंगा जी की भोग मूर्ति को डोली यात्रा के साथ मुखबा के लिए रवाना किया गया।


हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Chennel… 

डोली यात्रा मुखबा मार्कण्डेय के निकट देवी मंदिर में रात्रि विश्राम करेगी और मंगलवार को मां गंगा की भोग मूर्ति को मुखबा स्थित गंगा मंदिर (Ganga temple) में स्थापित किया जाएगा। वहीं, भैयादूज पर 29 अक्तूबर को यमुनोत्री मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद किए जाएंगे। 29 अक्तूबर को ही केदारनाथ धाम के कपाट मंगलवार सुबह 8:30 बजे बंद होंगे। इसके बाद बाबा की डोली को पहले पड़ाव रामपुर पहुंचाया जाएगा।

17 नवंबर को बदरीनाथ मंदिर (Badrinath Temple) के कपाट बंद होने हैं। इसके साथ ही चारधाम यात्रा का समापन हो जाएगा। चार धाम यात्रा के प्रति लोगों में बढ़ती आस्था और चाक चौबंद यात्रा व्यवस्थाओं के चलते इस बार यमुनोत्री एवं गंगोत्री धाम रिकार्ड संख्या में तीर्थयात्री पहुंचे। बीते वर्षों से अब तक वर्ष 2011 में सर्वाधिक 9,47,259 तीर्थयात्री इन धामों तक पहुंचे थे, जबकि इस बार कपाट बंद होने से तीन दिन पहले ही 9,93,314 तीर्थयात्री यमुनोत्री एवं गंगोत्री की यात्रा कर चुके हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है