Covid-19 Update

58,800
मामले (हिमाचल)
57,367
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,137,922
मामले (भारत)
115,172,098
मामले (दुनिया)

हाईकोर्ट ने मांगा जवाब, राष्ट्रपति के बॉडीगार्ड तीन जातियों के ही क्यों ?

हाईकोर्ट ने मांगा जवाब, राष्ट्रपति के बॉडीगार्ड तीन जातियों के ही क्यों ?

- Advertisement -

नई दिल्ली। राष्ट्रपति के बॉडीगार्ड तीन जातियों के ही क्यों हैं? इसकों लेकर दिल्ली हाईकोर्ट ने रक्षा मंत्रालय, सेनाध्यक्ष, राष्ट्रपति के अंगरक्षक निदेशक और सेना भर्ती के कमांडेंट को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। हाईकोर्ट ने जिम्मेंदार विभागों को चार सप्ताह के भीतर जवाब दाखिल करने को कहा है। दिल्ली हाईकोर्ट ने ये जवाब एक याचिका की सुनवाई पर मांगा है।

8 मई को होगी अगली सुनवाई

दिल्ली हाईकोर्ट ने इस मामले की अगली सुनवाई की तारीख 8 मई 2019 रखी है। शुक्रवार को धारूहेड़ा निवासी युवक गौरव यादव की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस आफ मोशन जारी किया है। अब फरवरी में केंद्र सरकार को दिल्ली हाईकोर्ट में अपना पक्ष रखकर इस बात का जवाब देना होगा कि आखिर राष्ट्रपति के अंगरक्षक नियुक्त होने का अधिकार सिर्फ तीन जातियों के जवानों को ही क्यों दिया जा रहा है।

भर्ती के खिलाफ गौरव यादव ने दायर की है याचिका

हरियाणा निवासी गौरव यादव ने राष्ट्रपति के अंगरक्षक की 4 सितंबर, 2017 हुई भर्ती पर सवाल खड़े किए थे। इस भर्ती में केवल तीन जातियों – जाटों, राजपूतों और जाट सिखों को भर्ती के लिए आमंत्रित किया था। याचिकाकर्ता ने कहा कि वह अहीर / यादव जाति से संबंधित है और राष्ट्रपति के अंगरक्षक भर्ती के सभी पात्रता मानदंडों को पूरा करता है। सिर्फ जाति को छोड़कर। उसे इस पद के लिए भर्ती किया जाए।

सिर्फ तीन जातियों की ही है भर्ती की मान्यता

वकील राम नरेश यादव के माध्यम से दायर याचिका में कहा गया है कि, सिर्फ तीन जातियों को ही इस भर्ती के मान्यता दी गई है। भर्ती का पालन किया जाने वाली वर्गीकरण मनमाना है। जो जाति के आधार पर किया जाता है। यह नियम भारत के संविधान के अनुच्छेद 14 का पूर्ण उल्लंघन करता है। इसके अलावा, भर्ती प्रक्रिया अनुच्छेद 15 (1) का उल्लंघन करती है, जो जाति, धर्म, जाति, लिंग, रंग और जन्म स्थान के आधार पर भेदभाव पर रोक लगाती है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है