Covid-19 Update

59,059
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,204,179
मामले (भारत)
116,873,133
मामले (दुनिया)

मां-बेटे के मिलन का प्रतीक अंतरराष्ट्रीय रेणुका मेला शुरू, बदली यह परंपरा

मां-बेटे के मिलन का प्रतीक अंतरराष्ट्रीय रेणुका मेला शुरू, बदली यह परंपरा

- Advertisement -

रेणुकाजी। मां रेणुकाजी व बेटे भगवान परशुराम के मिलन का प्रतीक अंतरराष्ट्रीय रेणुका मेले का शानदार शुभारंभ हो गया। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल (Dr. Rajeev Bindal) ने भगवान परशुराम की पालकी को कंधा देकर मेले का विधिवत शुभारंभ किया। भव्य शोभायात्रा में देवताओं की कई पालकियां आकर्षण के केंद्र रहीं। हालांकि ये पहला मौका है जब रेणुका मेले की परंपरा बदली है। हर साल सीएम ही देवपालकी को कंधा देकर शोभायात्रा का शुभारंभ करते आ रहे है। यही परंपरा कई दशकों से चली आ रही है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Chennel… 

पहली बार ऐसा हो रहा है जब रेणुका उत्सव में सीएम की कमी खली। इस बार सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) मेले के समापन पर 12 नवंबर को रेणुका पहुंचेंगे। जबकि समापन राज्यपाल करते आ रहे हैं। इस बार मेले का शुभारंभ विधानसभा अध्यक्ष डॉ राजीव बिंदल ने किया। धर्मशाला में आयोजित हो रही इंवेस्टर मीट और रेणुका मेला एक ही दिन पड़ने से सीएम मेले का शुभारंभ नहीं कर पाए। ददाहू स्कूल के खेल परिसर से विस अध्यक्ष डॉ राजीव बिंदल ने देवपालकी की कंधा देकर शोभायात्रा का शुभारंभ किया।

करीब पौने तीन बजे स्थानीय खेल मैदान से शुरू होकर ददाहू बाजार, गिरिपुल, बड़ोन, देवशिला व मेला मैदान से होते हुए शाम ढलने से पूर्व रेणुकाजी तीर्थ के त्रिवेणी संगम पर पहुंची। जहां देवताओं का पारंपरिक मिलन हुआ। इस मिलन को नजदीक से निहारने व इस पावन पलों के साक्षी बनने के लिए हजारों श्रद्धालुओं का हुजूम मेले में दिखाई दिया। शोभायात्रा प्राकृतिक लोक वाद्य यंत्रों, शंख, घंटियाल, ढोल-नगाड़ों, बैंड-बाजे के साथ निकाली गई। इससे रेणुका (Renuka) की वादियां भक्तिमय हो उठीं। शोभायात्रा में भगवान परशुराम के प्राचीन जामू मंदिर, कटाह मंदिर, माशू देवता मंदिर व मंडलाह के मंदिरों से लाई गई देव पालकियां भारी आकर्षण का केंद्र बनी रहीं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है