केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के संज्ञान के बाद रुका बंदरों को मारने का क्रम

'हिमाचल अभी अभी' की खबर पर केंद्रीय मंत्री ने तलब की थी रिपोर्ट

केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के संज्ञान के बाद रुका बंदरों को मारने का क्रम

- Advertisement -

चंबा। केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के जिला चंबा के चुवाड़ी में बंदरों के मारे जाने संबंधी मामले का संज्ञान लेने के बाद इनको मारने का क्रम थमने लगा है। बंदरों को मारे जाने का मुद्दा ‘हिमाचल अभी अभी’ ने प्रमुखता से उठाया था। केंद्रीय मंत्री ने ‘हिमाचल अभी अभी’ की खबर पर कड़ा संज्ञान लेते हुए प्रदेश के वन विभाग को पत्र लिखकर इस संबंध में रिपोर्ट मांगी थी। विभाग ने रिपोर्ट तैयार कर कार्रवाई लिख कर भेज दी है। वहीं, ऐसे मुद्दों पर सरकार तक को आड़े हाथ लेने वाली मेनका गांधी के हस्तक्षेप के बाद वन विभाग ने 4 सदस्यीय कमेटी बनाकर जांच कर विभिन्न पंचायतों में जाकर प्रतिनिधियों और लोगों को जागरूक किया और मामले की टोह लेने का भी प्रयास किया।

ये भी पढ़ें : हिमाचल अभी अभी इम्पैक्टः बंदर मारने के मामले में मेनका गांधी ने तलब की रिपोर्ट

हरकत में आए वन विभाग ने ऐसा जहर बेच रहे कुछ दुकानदारों से भी पूछताछ कर उन्हें हिदायत दी। इससे पहले प्रदेश में बंदर प्रजाति को हिंसक श्रेणी में रख मारने पर प्रोत्साहन योजना भी थी। इस दौरान लोगों ने बंदरों को मारने पर कोई रुचि नहीं दिखाई। वहीं, अब प्रतिबंध के बावजूद बंदरों को मारा जा रहा था। यहां-वहां बिखरे मृत बंदरों को चील-कौवों के साथ गीदड़ और कुत्ते भी नोंच रहे थे। लिहाज़ा इससे संक्रमण फैलने के खतरे से भी इंकार नहीं किया जा सकता। उधर, वन विभाग की 4 सदस्यीय जांच टीम की अगुवाई करने वाले वनपाल अजय महाजन ने बताया कि टीम ने क्षेत्र की पंचायतों में छानबीन की तथा पंचायतों के लोगों को बंदर न मारने के लिए जागरूक किया। उन्होंने बताया कि ऐसे करने पर आरोपी को 3 साल की सजा का प्रावधान है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें हिमाचल अभी अभी न्यूज अलर्ट

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है