Expand

शीतकालीन सत्र में आएगी गर्माहट

शीतकालीन सत्र में आएगी गर्माहट

- Advertisement -

लोकिन्दर बेक्टा/शिमला। इस बार विधानसभा का शीतकालीन सत्र हंगामेदार रहेगा। इस सत्र के गर्म रहने की स्क्रिप्ट अभी से लिखी जाने लगी है। इससे राज्य का सियासी पारा भी बढ़ने लगा है। जाहिर है,धौलाधार की ठंडी हवाएं भी इस गर्मी को कम नहीं कर पाएंगी। सीएम वीरभद्र सिंह और पूर्व सीएम प्रेमकुमार धूमल के ताजा बयानों से तो कम से कम यही लगता है। ऊपर से इनके बीच चार्जशीट का जिन्न भी आने वाला है। यह तापमान को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाने वाला है।

  • सीएम वीरभद्र सिंह-नेता विपक्ष के बयानों ने बढ़ाई सियासत

vidhan-sabha-tapovan-2राज्य की कांग्रेस सरकार अपने चार वर्ष पूरा करने जा रही है और अब चुनावी वर्ष शुरू होने वाला है। उधर, बीजेपी सरकार के चार वर्ष के मौके पर बड़ी चार्जशीट लाने की तैयारी में है। ऐसे में यह चार्जशीट राज्य का सियासी पारा गरमाने में अहम रोल अदा करने वाली है। धर्मशाला के तपोवन में होने वाला विधानसभा का शीतकालीन सत्र इस सरकार के कार्यकाल का अंतिम सत्र होगा। क्योंकि अगले शीतकालीन सत्र से पहले नई विधानसभा का गठन हो जाएगा और फिर नई सरकार के गठन के बाद ही वहां सत्र होगा। विधानसभा का शीतकालीन सत्र धर्मशाला के तपोवन में 19 दिसंबर से 23 दिसंबर तक होगा। ऐसे में सत्ताधारी कांग्रेस और विपक्ष बीजेपी कांगड़ा जिला में हर सूरत में खुद को एक-दूसरे से ऊपर रखने का प्रयास करेंगे और इसके लिए हर सियासी दांव भी खेला जाएगा। चाहे वह सत्र में हंगामा करने का हो या फिर सदन से वाकआउट कर जनता का ध्यान खींचने का।

राज्य की राजनीति में कांगड़ा जिला का अहम रोल है और इसलिए कोई भी दल इस जिला में खुद कमजोर दिखने का रिस्क नहीं लेगा। विधानसभा के शीतकालीन सत्र के बाद मंडी में सरकार अपने चार वर्ष का कार्यकाल पूरा करने का जश्न मनाएगी।

  • बीजेपी की चार्जशीट भी देगी झटका

charge-sheet125 दिसंबर को कांग्रेस सरकार के चार वर्ष पूरे हो रहे हैं और उसके लिए मंडी को चुना गया है, क्योंकि इसी स्थान पर बीजेपी ने भी पिछले माह पीएम मोदी की रैली करवाई थी और इसमें जुटी भीड़ को लेकर भी खूब राजनीति हुई थी। कांग्रेस ने इस रैली को सफल नहीं माना और अब उस रैली से ज्यादा भीड़ जुटाकर अपनी लोकप्रियता का जवाब कांग्रेस देगी। उधर, बीजेपी कांग्रेस सरकार के चार वर्ष के पूरा होने पर चार्जशीट के माध्यम से वह जनता के बीच यह बताने का प्रयास करेगी कि इस सरकार में भ्रष्टाचार व्याप्त है और यह  भ्रष्टाचार ऊपर से लेकर नीचे तक फैला है। इसकी तैयारी बीजेपी कर रही है और इस चार्जशीट के बहाने कांग्रेस और बीजेपी के बीच तीखी तकरार होने की भी संभावना है।

 गौरतलब है कि चार्जशीट को लेकर अभी से सत्ताधारी और विपक्ष आमने-सामने हो रहे हैं और आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो चुका है। आज के हालात को देखते हुए राजनीतिक पंडित भी तपोवन में माहौल के गर्म रहने की उम्मीद जता रहे हैं। इस बीच, विपक्षी बीजेपी विधानसभा के दौरान सदन की बैठकों के हंगामे की भेंट चढ़ने का पहले ही अंदेशा जता चुकी है। उसके पास अंदेशा जताने की वजह भी है। नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार धूमल कह चुके हैं कि सीएम वीरभद्र सिंह नहीं चाहते कि विधानसभा का सत्र शांति से हो और उसमें जनहित के मुद्दे उठें और उसमें सरकार की घेराबंदी हो। इसलिए वे विपक्ष के खिलाफ अनाप-शनाप बयानबाजी कर रहे हैं। इससे वे राजनीतिक माहौल खराब करना चाहते हैं, ताकि सदन में जनहित के मुद्दों पर चर्चा न हो और टिप्पणियों व शोर-शराबे में ही सदन का समय निकल जाए। वैसे धूमल कहते हैं कि वे सदन में सार्थक चर्चा चाहते हैं और सदन चलाने को पूरा साथ देंगे। उधर, सीएम वीरभद्र सिंह भी स्पष्ट कह चुके हैं कि विधानसभा का सत्र चलेगा। उनका कहना है कि विपक्ष नहीं चाहता कि सदन में शालीनता के साथ चर्चा हो और सदन की कार्यवाही सुचारू रूप से चले। सीएम कहते हैं कि विपक्ष सदन में शोर-शराबा ही करता है और पहले भी वह ऐसा कर चुका है और इस कारण जनहित के मुद्दों पर चर्चा नहीं हो पाती। इसके बावजूद उनका प्रयास रहेगा कि सदन की कार्यवाही सुचारू रूप से चले।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है