Covid-19 Update

1,99,430
मामले (हिमाचल)
1,92,256
मरीज ठीक हुए
3,398
मौत
29,685,946
मामले (भारत)
177,559,790
मामले (दुनिया)
×

अगले साल से कागज की बोतल में आएगी दुनिया की Famous Whiskey

अगले साल से कागज की बोतल में आएगी दुनिया की Famous Whiskey

- Advertisement -

दुनिया में प्रदूषण कम करने के लिए सभी अपनी तरफ से कोई ना कोई प्रयास कर रहे हैं। इसी कड़ी में अब दुनिया की एक प्रसिद्ध स्कॉच व्हिस्की ब्रांड (Famous Scotch Whiskey Brand) अगले साल से कागज के बोतल में आएगी। इस व्हिस्की को बनाने वाली कंपनी ने कहा है कि साल 2021 से हम अपना ब्रांड कागज की बोतल में लॉन्च करेंगे ताकि, दुनिया से प्रदूषण का स्तर कम हो और कागज के बोतलों (Paper bottle) को रिसाइकिल किया जा सके। इससे लागत भी कम आएगी। इस स्कॉच व्हिस्की का नाम है जॉनी वॉकर (Johnnie Walker)। जॉनी वॉकर को बनाने वाली कंपनी डियाजियो ने इस काम के लिए पायलट लाइट नाम की कंपनी से समझौता किया है। पायलट लाइट कंपनी जॉनी वॉकर के लिए डियाजियो कंपनी को फूड ग्रेड स्टैंडर्ड से बनी कागज की बोतलें देगा। ये बोतलें पूरी तरह से रिसाइकिल करने योग्य होंगी।

डियाजियो और पायलट लाइट ने मिलकर एक कंपनी बनाई है, जिसका नाम पल्पेक्स लिमिटेड (Palpex limited) है। यहीं पर बोतलों का नया डिजाइन बनेगा। बोतलों पर रिसर्च किया जाएगा और उन्हें विकसित करके जॉनी वॉकर स्कॉच व्हिस्की को बाजार में लॉन्च किया जाएगा। पल्पेक्स यूनीलिवर, लिप्टन और पेप्सीको के लिए भी कागज की बोतलें सप्लाई करेगा। उम्मीद जताई जा रही है कि पल्पेक्स इन सभी कंपनियों को अगले साल कागज की बोतलें मुहैया कराएगा। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि ग्लास और प्लास्टिक से होने वाले प्रदूषण को कम किया जा सके। कंज्यूमर प्रोडक्ट कंपनियों ने अपनी तरफ से प्लास्टिक प्रदूषण को कम करने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऐसे कई कदम उठाए हैं।

 

ये भी पढे़ं – लाखों में नहीं करोड़ों में बिकती है ये Whiskey, जानें क्या है खास …

 

यूरोप में साल 2018 में पैकेज फूड और ड्रिंक्स (Package Food and Drinks) के लिए 82 लाख टन प्लास्टिक का उपयोग किया गया था। हालांकि, जॉनी वॉकर को बनाने वाली कंपनी डियाजियो अपने उत्पाद में 5 फीसदी से भी कम प्लास्टिक का उपयोग करती है। इसके बावजूद उसने यह कदम उठाया है। डियाजियो ने यूनीलिवर और पेप्सीको के साथ मिलकर यह योजना बनाई है कि वो प्लास्टिक उत्पादों का उपयोग खत्म करेंगे। साथ ही संयुक्त राष्ट्र के सस्टेनेबल गोल्स के तहत साल 2025 तक प्लास्टिक के उपयोग को जीरो तक ले आएंगे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है