Covid-19 Update

58,879
मामले (हिमाचल)
57,406
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,173,761
मामले (भारत)
116,220,912
मामले (दुनिया)

सलमान खुर्शीद बोले, ट्रिपल तलाक का कोई अस्तित्व नहीं, है तो बस जिद्द

सलमान खुर्शीद बोले, ट्रिपल तलाक का कोई अस्तित्व नहीं, है तो बस जिद्द

- Advertisement -

दयाराम कश्यप, सोलन। कसौली में आयोजित खुशवंत सिंह लिटफेस्ट में भाग लेने आए पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद ने मीडिया के साथ हुई विशेष बातचीत में बताया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ट्रिपल तलाक का मसला हल हो गया है और ये बात स्पष्ट हो गई कि ट्रिपल तलाक का कोई अस्तित्व नहीं है। पर कुछ लोग जिद्दी हैं, जो कहते हैं कि हम ट्रिपल तलाक लेंगे।

दूसरी ओर सरकार भी जिद्द कर रही है कि ट्रिपल तलाक पर क्रिमिनल लॉ है, उसे लागू करेंगे। किताब लिखने का मकसद यह है कि सारी बातें स्पष्ट हो सकें। ट्रिपल तलाक की बुनियाद क्या थी, कैसे ट्रिपल तलाक की व्यवस्था बनी, किस तरह ट्रिपल तलाक अवैध मसला बन गया था, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खत्म कर दिया है। दूसरे दिन दोपहर बाद का चौथे सेंशन में वूमनस सोशियो-रिलिजियस रिफोर्मस विषय पर जाकिया सोमन, मासूमा रानालवी, सलमान खुर्शीद व सायरा बानो वक्ता, जबकि हरिंद्र बवेजा के बीच में चर्चा हुई। इसमें सभी वक्ताओं ने अपने-अपने विचार रखे।

तीन तलाक पर क्या बोलीं सायरा बानो

सायरा बानो ने इस सेशन में हुई बातचीत को भविष्य में होने वाले फैसले में मील का पत्थर साबित होना बताया। सेंशन के उपरांत सायरा बानो ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह मुस्लिम समुदाय की पहली महिला हैं, जिन्होंने ट्रिपल तलाक के विरोध में आवाज उठाई थी। लंबी कानूनी लड़ाई लड़कर करोड़ों महिलाओं के लिए एक मिसाल कायम की है।

शायरा बानो ने बताया कि उन्होंने तलाक को खत्म करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था और उन्होंने अपने हक की लड़ाई के लिए ट्रिपल तलाक को खत्म करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी कि ट्रिपल तलाक को खत्म किया जाए, उनकी मेहनत रंग लाई और फैसला उनके हक में सुनाया गया। उन्होंने कहा कि आज कसौली में सलमान खुर्शीद और अन्य महिलाओं के साथ तीन तलाक पर बहस कर उन्हें बहुत अच्छा लगा है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है