Covid-19 Update

58,543
मामले (हिमाचल)
57,287
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,077,957
मामले (भारत)
113,760,666
मामले (दुनिया)

इस कचहरी में होती है देवताओं की पेशी, ये देवी निभातीं हैं जज की भूमिका

इस कचहरी में होती है देवताओं की पेशी, ये देवी निभातीं हैं जज की भूमिका

- Advertisement -

नई दिल्ली। आपने दुनिया भर की तमाम सारी अदालतों के बारे में सुन रखा होगा, लेकिन आज हम आपको जिस आदलत के बारे में बताने जा रहे हैं उसके बारे में जानकर आप हैरान हो जाएंगे। दरअसल इस कचहरी में देवताओं की पेशी होती है और यहां पर भंगाराम देवी जज की भूमिका निभातीं हैं। जी हां ये बिलकुल सच है।

बस्तर स्थित केशकाल में एक ऐसी आदलत लगती है जहां देवी देवताओं की पेशी होती है। इस दौरान बारह मोड़ वाली सर्पीली केशकाल घाटी के ऊपर मंदिर में विराजित भंगाराम देवी जज की भूमिका में होती हैं।जहां पर प्रार्थी के रूप में मौजूद श्रद्धालुओं की शिकायत के आधार पर देवी देवताओं का निलंबन तक कर दिया जाता है। वहीं कई बार तो मान्यता समाप्ति से लेकर सजा-ए-मौत तक का फैसला सुना दिया जाता है। हर साल भादो मास के कृष्ण पक्ष में शनिवार के दिन भादो जातरा के अवसर पर लगने वाली इस अदलत में हजारों लोग मौजूद रहते हैं। इस अदालत में देवी-देवताओं को भी अपना पक्ष रखने का मिलता है।

इस पूजा के दौरान देवताओं के प्रतिनिधि के रूप में पुजारी, गायता, सिरहा, मांझी व मुखिया मौजूद रहते हैं। गाराम सेवा समिति के सदस्य भंगाराम माई के पास जाने से पहले सभी देवी-देवताओं के प्रतीकों को थाने ले जाते हैं। जहां पर उनकी हाजिरी लगाई जाती है। इस दौरान थाने में तैनात जवान देवी-देवताओं की पूजा करते हैं। जिसके बाद पुलिस की सुरक्षा में देवी-देवताओं को पूजा स्थल भंगाराम देवी मंदिर तक लाया जाता है। गांव वाले बताते हैं कि वर्षों पहले क्षेत्र में कोई डॉक्टर खान थे, जो बीमारों का इलाज पूरे सेवाभाव और नि:स्वार्थ रूप से करते थे। उनके नहीं रहने पर यहां के ग्रामीणों ने उन्हें देवता के रूप में स्वीकार कर लिया है, जो भंगाराम देवी मंदिर में विराजित हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है