Covid-19 Update

58,543
मामले (हिमाचल)
57,287
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,077,957
मामले (भारत)
113,760,666
मामले (दुनिया)

OMG ! विदेश में बैन हैं आपके ये फेवरेट फूड आइटम्‍स

OMG ! विदेश में बैन हैं आपके ये फेवरेट फूड आइटम्‍स

- Advertisement -

फ्री टाइम में लोगों के शौक होते हैं खाना-पीना और घूमना। घूमने के लिए आपको पास कई ऑप्शन होते हैं लेकिन खाने के लिए नहीं। जरूरी नहीं कि आप जहां घूमने जा रहे हैं वहां आपका फेवरेट फूड भी आपको मिल जाए। हम अगर आपसे कहें कि आपकी कई फेवरेट डिश विदेशों में आपको कभी खाने को नहीं मिलेंगी तो आपको हैरानी जरूर होगी। दुनियाभर में ऐसी कई जगह है जहां कुछ फूड आइटम्‍स पर बैन लगा हुआ है। ऐसे ही कई जगह और फूड आइटम्‍स के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं …

टमेटो कैचअप :फ्रांस में फ्रेंच डिशेज ट्राय कर रहे हैं तो भूल से भी टमेटो कैचअप न मांगे क्‍योंकि फ्रांस सरकार ने 2011 में ही एलिमेंट्री स्‍कूलों से टमेटो कैचअप को बैन कर द‍िया था। इसके पीछे की वजह थी कि ताकि वहां आने वाले पर्यटक और स्‍थानीय लोगों पारंपरिक फ्रैंच व्‍यंजनों का लुत्‍फ उठा सकें और पारंपरिक स्‍वाद बरकरार रहे।

च्‍युइंगम :सीफूड के ल‍िए जाना जाने वाला देश सिंगापुर में च्‍युइंगम चबाने पर सख्‍त पाबंद है। अगर इस देश में कोई स्‍थानीय व्यक्ति या पर्यटक च्‍युइंगम चबाते हुए दिख जाता है तो उसे भारी जुर्माना देना पड़ सकता है।

समोसा : कई देशों में समोसा बड़े चाव से खाया जाता है और हमारे देश में हर शहर के गली-मोहल्लों में सबसे ज्यादा बिकता है पर सोमालिया में यह साल 2011 से पूरी तरह से बैन है। इसका कारण उसके शेप को लेकर जुड़ी आपत्तियों को बताया गया है। यहां की सरकार ने ईसाई धर्म के लोगों के कहने पर समोसे पर बैन लगा दिया। उनका मानना है कि यह तिकोने आकार का होता है। यह आकार ईसाईयों के धर्म-चिन्ह को दर्शाता है।

खुला दूध और बादाम : हमारे देश में अधिकांश खाने-पीने की चीजें खुले में बिकती हैं, जिनमें दूध सबसे ज्यादा है। इसके अलावा कई और चीजें हैं जो ज्यादातर खुले में बेची जाती हैं पर अमेरिका में अधिकांश खुली वस्तुओं की बिक्री पर रोक है। वहां खुला दूध नहीं बेचा जाता, वहीं यूएसए के 22 राज्यों में बादाम खुले में बेचने पर पूरी तरह से प्रतिबंधित है।

जेली मिनी कप्स : यूरोपियन यूनियन में जेली मिनी कप्स बैन कर दिए गए हैं और इसके पीछे वजह है इसमें E425 कंटेंट होता है, जिसकी लत बच्‍चों को जल्‍दी लग जाती है। बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्य को देखते हुए इसे यूरोपियन यूनियन राष्‍ट्र में बैन कर दिया गया है। बीफ धार्मिक कारणों के वजह से भारत में गाय का मांस बेचना और खाना दोनों ही दंडनीय अपराध माना जाता है। हालांकि इसे लेकर भी अलग-अलग राज्‍यों में अलग-अलग कानून हैं।

वेजिटेरियन फूड : फ्रांस के स्कूलों के कैंटीनों में वेजिटेरियन फूड बैन हैं। इसके पीछे कारण यह बताया गया कि बच्चों को जरूरी पोषक तत्व मांसाहारी खाने से ही मिल सकता है।

हॉर्स मीट : यूएस और यूरोपियन कंट्री में हॉर्स मीट यानी घोड़े के मीट पर बैन है, अगर कोई इस नियम की अनदेखी करता हुआ पकड़ा जाएगा तो उसे भारी जुर्माना भी वसूला जा सकता है। घोड़े का मीट खाने के लिए इन्हें मारने पर विशेष पाबंदी है, अगर कोई ऐसा करता है तो उसे जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है