Expand

जानिए कौन से ग्रह बनाते हैं रोजगार के योग

जानिए कौन से ग्रह बनाते हैं रोजगार के योग

- Advertisement -

ज्योतिष से भविष्य संवारा जा सकता है। नौकरी करवाना और नौकरी करना दो अलग-अलग बातें हैं। जन्म कुंडली में अगर शनि नीच का है तो जातक नौकरी करेगा और शनि अगर उच्च का है तो नौकरी करवाएगा। तुला का शनि उच्च का होता है और मेष का शनि नीच का होता है। मेष राशि से जैसे-जैसे शनि तुला राशि की तरफ़ बढता जाता है उच्चता की ओर अग्रसर होता जाता है और तुला राशि से शनि जैसे-जैसे आगे जाता है नीच की तरफ़ बढ़ता जाता है। कुंडली में देख कर पता किया जा सकता है कि शनि की स्थिति कहां पर है और जिस स्थान पर शनि होता है उसके साथ शनि अपने से तीसरे स्थान पर, सातवें स्थान पर और दसवें स्थान पर अपना पूरा असर देता है।

पंडित दयानंद शास्त्री के अनुसार ज्योतिष शास्त्र में सूर्य तथा चंद्र को राजा या प्रशासन से संबंध रखने वाले ग्रह के रूप में जाना जाता है। सूर्य या चंद्र का लग्न, धन, चतुर्थ तथा कर्म से संबंध या इनके मालिक के साथ संबंध सरकारी नौकरी की स्थिति दर्शाता है। सूर्य का प्रभाव चंद्र की अपेक्षा अधिक होता है। जन्म कुंडली में सूर्य तथा चंद्र की विभिन्न स्थिति इस प्रकार फलदायी होती है

लग्न पर बैठे किसी ग्रह का प्रभाव व्यक्ति के जीवन में सबसे अधिक प्रभाव रखने वाला माना जाता है। लग्न पर यदि सूर्य या चंद्र स्थित हो तो व्यक्ति शाषण से जुड़ता है और अत्यधिक नाम कमाने वाला होता है।

चंद्र का दशम भाव पर दृष्टी या दशमेश के साथ युति सरकारी क्षेत्र में सफलता दर्शाता है। यधपि चंद्र चंचल तथा अस्थिर ग्रह है जिस कारण जातक को नौकरी मिलने में थोड़ी परेशानी आती है। ऐसे जातक नौकरी मिलने के बाद स्थान परिवर्तन या बदलाव के दौर से बार-बार गुजरते हैं।

जब कुंडली में सूर्य या चन्द्रमा में से कोई एक मजबूत हो

जब कुंडली में पञ्च महापुरुष योग में से एक या ज्यादा योग हों

जब शनि की स्थिति मजबूत हो और शनि की साधे साती या ढैया चल रही हो

सूर्य धन स्थान पर स्थित हो तथा दशमेश को देखे तो व्यक्ति को सरकारी क्षेत्र में नौकरी मिलने के योग बनते है। ऐसे जातक खुफिया एजेंसी या गुप-चुप तरीके से कार्य करने वाले होते हैं।

सूर्य तथा चंद्र की स्थिति दशमांश कुंडली के लग्न या दशम स्थान पर होने से व्यक्ति राज कार्यों में व्यस्त रहता है ऐसे जातकों को बड़ा औहदा प्राप्त होता है।

यदि ग्रह अत्यधिक बली हो तब भी वे अपने क्षेत्र से संबंधित सरकारी नौकरी दे सकते हैं। मंगल सैनिक या उच्च अधिकारी, बुध बैंक या इंश्योरेंस, गुरु- शिक्षा संबंधी, शुक्र फाइनेंस संबंधी तो शनि अनेक विभागों में जोड़ने वाला प्रभाव रखता है। पैसा कमाने की इच्‍छा रखने वाले लोग इनका पूजन करें।

यदि लग्न में शुभ ग्रहों की स्थिति और लग्न का स्वामी एक शुभ भाव में स्थापित हो तो वह अपनी दशा में जातक को उच्च पद तक पहुंचा सकता है, परन्तु शर्त यह है की उस गृह की दशा आपकी मध्यम उम्र में आनी चाहिए, यदि ये दशा आपके बुढ़ापे में आयगी को ज्यादा फायदा नहीं दे पायगी। जन्म कुंडली का पहला, दूसरा, चौथा, सातवा, नौवा, दसवा, ग्यारहवा घर तथा इन घरों के स्वामी अपने कार्य काल में जातक को कामयाबी प्रदान करते है ।

कुछ ज्योतिषी छटवे भाव या इसके स्वामी को स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं मानते और यह बात सत्य भी है परन्तु और भी कई परिस्थियों के आधार पर ही हम ऐसा कह सकते हैं अन्यथा छठा भाव तथा इसका स्वामी गृह अपनी दशा में आपको एक उच्च पद का अधिकारी बना सकता है क्योकि छठा भाव और इसका स्वामी जातक के नौकरी पेशा से संबंध रखता है।

दसवां और ग्यारहवां भाव तथा इनके स्वामी ग्रहों का भी जातक की तरक्की से गहरा संबंध होता है क्योकि दसवां भाव हमारे रोजगार से और ग्यारहवां भाव हमारी आय से संबंध रखता है। अब यदि इन भावों में शुभ ग्रहों की स्थिति और इन भावों के स्वामी शुभ स्थिति में हों और इन ग्रहों की दशा आपकी मध्यम उम्र में आ जाए तो आप एक बेहतरीन जीवन शैली, नौकरी और उच्च पद के अधिकारी बन सकते हैं और एक अच्छी आय कमा सकते हैं।

सूर्य चंद्र का चतुर्थ प्रभाव जातक को सरकारी क्षेत्र में नौकरी प्रदान करता है। इस स्थान पर बैठे ग्रह सप्तम दृष्टि से कर्म स्थान को देखते हैं।

हाथ में सूर्य की दोहरी रेखा हो

हाथ में बृहस्पति के पर्वत पर क्रास हो

सूर्य यदि दशम भाव में स्थित हो तो व्यक्ति को सरकारी कार्यों से अवश्य लाभ मिलता है। दशम स्थान कार्य का स्थान हैं। इस स्थान पर सूर्य का स्थित होना व्यक्ति को सरकारी क्षेत्रों में अवश्य लेकर जाता है। सूर्य दशम स्थान का कारक होता है जिस कारण इस भाव के फल मिलने के प्रबल संकेत मिलते हैं।

इन कारणों से नहीं आता नौकरी का बुलावा :

आपके पास बार-बार नौकरी के बुलावे आते हैं और आप नौकरी के लिए चुने नहीं जाते हैं तो इसमें इन कारणों का विचार आपको करना पड़ेगा :

यह कि नौकरी की काबलियत आपके अन्दर है,अगर नहीं होती तो आपको बुलाया नहीं जाता।

नौकरी के लिए परीक्षा देने की योग्यता आपके अंदर है, अगर नहीं होती तो आप संबंधित नौकरी के लिए पास की जाने वाली परीक्षाएं ही उत्तीर्ण नहीं कर पाते।

नौकरी के लिए तीन बातें बहुत जरूरी है, पहली वाणी, दूसरी खोजी नजर और तीसरी जो नौकरी के बारे में इन्टरव्यू आदि ले रहा है उसकी मुखाकृति और हाव-भाव से उसके द्वारा प्रकट किए जाने वाले विचारों को उसके पूछने से पहले समझ जाना और जब वह पूछे तो उसके तुरंत बाद ही उसका उत्तर दे दें।

वाणी के लिए बुध, खोजी नजर के लिए मन्गल और बात करने से पहले ही समझने के लिए चन्द्रमा।

नौकरी से मिलने वाले लाभ का घर चौथा भाव है, इस भाव के कारकों को समझना भी जरूरी है, चौथे भाव में अगर कोई खराब ग्रह है और नौकरी के भाव के मालिक का दुश्मन ग्रह है तो वह चाह कर भी नौकरी नहीं करने देगा, इसके लिए उसे चौथे भाव से हटाने की क्रिया पहले से ही करनी चाहिए।

अगर जातक का मंगल चौथे भाव में है और नौकरी के भाव का मालिक बुध है तो मंगल के लिए शहद चार दिन लगातार बहते पानी में बहाना है और अगर शनि चौथे भाव में है और नौकरी के भाव का मालिक सूर्य है तो चार नारियल लगातार पानी मे बहाने होते हैं, इसी प्रकार से अन्य ग्रहों का उपाय किया जाता है।

जब कुंडली में बृहस्पति की स्थिति काफी ज्यादा मजबूत हो

जब कुंडली में ग्रहण योग या गुरु गुरु चांडाल योग हो

जब कुंडली में शनि का सम्बन्ध धन स्थान से हो

नौकरी के लिए उत्तम दशाएं –

लग्न के स्वामी की दशा और अंतरदशा में

नवमेश की दशा या अंतरदशा में

षष्ठेश की दशा या अंतरदशा में

प्रथम, षष्ठम, नवम और दशम भावों में स्थित ग्रहों की दशा या अंतरदशा में

राहु और केतु की दशा या अंतरदशा में

दशमेश की दशा या अंतरदशा में

द्वितीयेष और एकादशेष की दशा में

नवम भाव भाग्य का भाव माना जाता है। भाग्य का बलवान होना अति आवश्यक है अतः नवमेश की दशा या अंतरदशा में भी नौकरी मिल सकती है।

छठा भाव प्रतियोगिता का भाव माना जाता है। दशम भाव से नवम अर्थात भाग्य और नवम भाव से दशम अर्थात व्यवसाय का निर्देश करता है अतः षष्ठेश की दशा या अंतरदशा में भी नौकरी मिल सकती है। जो ग्रह प्रथम, षष्ठम, नवम और दशम में स्थित हों वे भी अपनी दशा या अंतरदशा में नौकरी दे सकते हैं।

नौकरी के लिए शनि के उपाय

नौकरी का मालिक शनि है लेकिन शनि की युति अगर छठे भाव के मालिक से है और दोनों मिलकर छठे भाव से अपना संबंध स्थापित किए हैं तो नौकरी के लिए फ़लदायी योग होगा, अगर किसी प्रकार से छठे भाव का मालिक अगर क्रूर ग्रह से युति किए हैं अथवा राहु केतु या अन्य प्रकार से खराब जगह पर स्थापित है अथवा नौकरी के भाव का मालिक धन स्थान या लाभ स्थान से संबंध नहीं रखता है तो नौकरी के लिए फ़लदायी समय नहीं होगा।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है