Covid-19 Update

58,777
मामले (हिमाचल)
57,347
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,122,986
मामले (भारत)
114,822,832
मामले (दुनिया)

शनिवार को करेंगे ये उपाय तो शांत होगा शनिदेव का प्रकोप

शनिवार को करेंगे ये उपाय तो शांत होगा शनिदेव का प्रकोप

- Advertisement -

भगवान शिव के भक्त शनिदेव के दिन त्रयोदशी का व्रत समस्त दोषों से मुक्ति देने वाला माना जाता है। त्रयोदशी का व्रत प्रदोष व्रत कहलाता है। इस व्रत की पूजा प्रदोष काल में होती है इसी कारण इसे प्रदोष व्रत कहा जाता है। इस बार 6 अक्टूबर, शनिवार को शनि प्रदोष व्रत है। शनि प्रदोष के दिन निम्न उपाय करने से आप पर शनि की कृपा बनी रहेगी। इसके साथ ही आपकी जन्म कुंडली में लगा साढ़े साती का प्रभाव भी कम होगा।

पुराणों के अनुसार शनि प्रदोष व्रत करने से शनि देव का प्रकोप शान्त हो जाता है। जिन लोगों पर साढ़ेसाती और ढैया का प्रभाव हो, उनके लिए शनि प्रदोष व्रत करना विशेष हितकारी माना गया है। इस दिन विधि-विधान से यह व्रत करना शनिदेव की कृपा प्राप्त करने का एक शास्त्रसम्मत आसान उपाय है। ऐसा करने से न सिर्फ़ शनि के कारण होने वाली परेशानियां दूर होती हैं, बल्कि शनिदेव का आशीर्वाद भी मिलता है जिससे सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

  • शनि प्रदोष वाले दिन जो जातक शनि की वस्तुओं जैसे लोहा, तैल, तिल, काली उड़द, कोयला और कम्बल आदि का दान करता है, शनि-मंदिर में जाकर तेल का दीया जलाता है तथा उपवास करता है, शनिदेव उससे प्रसन्न होकर उसके सारे दुःखों को हर लेते हैं।
  • संतान की कामना रखने वाले दम्पत्ति को शनि प्रदोष व्रत अवश्य रखना चाहिए।
  • शनि प्रदोष के दिन कांसे की कटोरी में तिल का तेल लेकर उसमें अपना चेहरा देखें और फिर उसे शनिदेव का दान लेने वाले व्यक्ति, यानी डाकोत को दान कर दें। इससे आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी।

  • एक काले कपड़े में काले उड़द, सवा किलो अनाज, दो लड्डू, कोयला व लोहे की कील लपेटकर बहते साफ जल में प्रवाहित कर दें।
  • काली गाय को बूंदी के लड्डू खिलाएं और गाय के माथे पर कुमकुम का तिलक लगाकर पूजा करें।
  • काले कुत्ते को तेल से चुपड़ी हुई रोटी खिलाएं। आपको कभी भी अन्न-धन की कमी नहीं होगी।
  • शनि स्तोत्र का पाठ करने से शनि के अशुभ प्रभाव के कारण जीवन में आ रही परेशानियों में कमी आती है।
  • शनि यंत्र की प्रतिष्ठा करके और आज से रोज उसके सामने सरसों के तेल का दीपक जलाएं तथा नीले या काले रंग का कोई फूल चढ़ाएं। साथ ही यंत्र के सामने बैठकर शनि के मंत्र ‘ऊं शं शनैश्चराय नम:’ का जाप करें।

  • शनिदेव ने एक बार हनुमान जी को यह वचन दिया था कि वे हनुमान की पूजा करने वालों को कभी भी कोई कष्ट नहीं देंगे। इसलिए शनि के दोषों से बचने के लिये अगर शनि के साथ-साथ हनुमान जी के भी उपाय किए जाएं, तो मनोकामना जल्द ही पूरी होती है।
  • शनि प्रदोष के दिन जहां शनिदेव को तिल, तेल, काले वस्त्र आदि चढ़ाए जाते हैं, वहां हनुमान जी को सिंदूर, लाल चंदन, फूल, चावल व लाल वस्त्र चढ़ाएं।

  • हनुमान जी को गुड़ से बनी किसी चीज़ का भोग लगाएं, इससे हनुमान जी के साथ-साथ शनिदेव भी आपसे प्रसन्न होंगे और उनकी असीम कृपा आप पर बनी रहेगी।
  • आठ बादाम हनुमान जी के पैरों में स्पर्श कराकर आधे बादाम काले कपड़े में बांधकर घर की पश्चिम दिशा में छुपाकर रखने से शनि का कोप शांत होता है, बाकी आधे हनुमान जी को अर्पित कर दें।

 

ज्योतिषाचार्य दयानंद शास्त्री, उज्जैन, मध्य प्रदेश

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है