- Advertisement -

RBI के इस नए फैसले से जनता को मिलेगी राहत, आप भी जानें

रेपो रेट के हिसाब से तय की जाएंगी ब्याज दरें

0

- Advertisement -

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने एक नया फैसला लिया, जिससे जनता को राहत मिलने की उम्मीद जताई जा रहा है। आरबीआई का यह फैसला होम, ऑटो और पर्सनल लोन से जुड़ा हुआ है। आरबीआई ने अपने इस फैसले में होम, ऑटो और पर्सनल लोन से जुड़े हुए एक नियम में बदलाव किया है। इस बदलाव के बाद से नए नियम के तहत अगर आरबीआई रेपो रेट घटाता है तो बैंकों को कर्ज सस्ता करना होगा। ऐसे में आपकी EMI घट जाएगी। बताया गया कि यह नया नियम लागू होने के बाद से आरबीआई के ब्याज दरों पर फैसला लेते ही बैंकों को भी कदम उठाना होगा।

जानकार लोगों का कहना है कि लोन लेने वालों की अक्‍सर ये शिकायत होती थी कि बैंक ब्‍याज दर तय करने में पारदर्शिता नहीं अपनाते हैं। इसके अलावा इन बैंकों पर यह भी आरोप लगता है कि वे RBI द्वारा ब्‍याज दर घटाने का पूरा फायदा ग्राहकों को नहीं देते हैं। इस वजह से आरबीआई के इस फैसले को जता के हित में देखा जा रहा है। बता दें कि आरबीआई ने कर्ज लेने वालों के लिए विभिन्‍न कैटेगरी की फ्लोटिंग ब्‍याज दरें अब एक्‍सटर्नल बेंचमार्क से लिंक्‍ड होंगी। RBI ने MCLR को एक्‍सटर्नल बेंचमार्क से रिप्‍लेस करने का प्रस्‍ताव किया है। RBI ने डेवलपमेंट एंड रेगुलेटरी पॉलिसीज के अपने बयान में प्रस्‍ताव किया है कि 1 अप्रैल 2019 से बैंक मौजूदा इंटरनल बेंचमार्क सिस्‍टम जैसे प्राइम लेंडिंग रेट, बेस रेट, मार्जिनल कॉस्‍ट ऑफ फंड बेस्‍ड लेंडिंग रेट (MCLR) की जगह एक्‍सटर्नल बेंचमार्क्‍स का इस्‍तेमाल करेंगे।

- Advertisement -

Leave A Reply