Covid-19 Update

2,21,826
मामले (हिमाचल)
2,16,750
मरीज ठीक हुए
3,711
मौत
34,108,996
मामले (भारत)
242,470,657
मामले (दुनिया)

#Corona_Virus को मार देगा ये डिवाइस ! जापान में खास यूवी लैंप लॉन्च

परंपरागत यूवी लैंप से काफी अलग है ये नया डिवाइस

#Corona_Virus को मार देगा ये डिवाइस ! जापान में खास यूवी लैंप लॉन्च

- Advertisement -

कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने की हर देश में होड़ मची हुई है। सभी चाहते हैं कि वह वैक्सीन जल्द से जल्द तैयार करें और बीमारी की रोकथाम के साथ मार्केट में भी अपनी धाक जमा लें। इसी बीच कोरोना (#Corona_Virus) से बचाव को लेकर कुछ ना कुछ चीजें कई देश बना रहे हैं। जापान की एक कंपनी ने ऐसा यूवी (Ultraviolet) लैंप लॉन्च किया है जो इंसान के शरीर को कोई नुकसान नहीं पहुंचाता, लेकिन कोरोना वायरस को मार देता है। परंपरागत यूवी लैंप (UV lamp) का इस्तेमाल इसलिए नहीं किया जाता क्योंकि इससे स्किन कैंसर और आंखों की समस्या होने का खतरा रहता है, लेकिन नए लैंप में कैंसर से बचाव के लिए खास उपाए किए गए हैं। इसे दुनिया में इस तरह की पहली डिवाइस समझा जा रहा है।

यह भी पढ़ें: #Covid-19 अस्पताल भोटाः सरकार को 10 दिन का अल्टीमेटम, नहीं तो होगा प्रदर्शन

जापान की कंपनी उशिओ ने नया यूवी लैंप लॉन्च किया है। परंपरागत यूवी लैंप से 254 नैनोमीटर वेवलेंथ की किरणें निकलती हैं, लेकिन नए लैंप से 222 नैनोमीटर की यूवी किरणें बाहर आएंगी जो इंसानों के लिए नुकसानदायक नहीं होंगी। कंपनी ने कहा है कि इस यूवी लैंप की कीमत करीब 2 लाख 10 हजार रुपये है। उशिओ जापान की प्रमुख लाइट इक्विपमेंट कंपनी है। कोलंबिया यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स के साथ मिलकर कंपनी ने नए लैंप को तैयार किया है। इसे Care 222 नाम दिया गया है। कंपनी ने कहा है कि उम्मीद की जा रही है कि इस यूवी लैंप का इस्तेमाल बस, ट्रेन, लिफ्ट और दफ्तरों में किया जाएगा।

मेडिकल और फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री में पहले से रोगाणुनाशन के लिए यूवी लाइट का इस्तेमाल किया जाता रहा है, लेकिन खतरे की वजह से वैसी जगहों पर उपयोग नहीं किया जाता जहां लोग मौजूद रहते हों। कंपनी का दावा है कि नए लैंप से 222 नैनोमीटर की यूवी किरणें बाहर आती हैं और यह स्किन में अंदर नहीं पहुंचती। ना ही आंखों को नुकसान पहुंचाती है। वहीं, यह 6 से 7 मिनट में वायरस और बैक्टिरिया (Viruses and Bacteria) को 99 फीसदी तक खत्म करने में सक्षम है। कंपनी ने कहा है कि हिरोशिमा यूनिवर्सिटी की एक स्टडी में भी इस बात की पुष्टि हुई है कि 222 नैनोमीटर की यूवी किरणें कोरोना वायरस को मार देती हैं। फिलहाल यह डिवाइस सिर्फ मेडिकल इंस्टीट्यूट के लिए उपलब्ध है, लेकिन उम्मीद है कि जनवरी तक यह बड़े पैमाने पर ऑर्डर के लिए उपलब्ध हो सकती है। इसके लिए कंपनी ने तोशिबा कंपनी के साथ करार किया है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखने के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है