×

Lockdown के दौरान ऐसे होगा आपका अच्छा Time Pass, अपनाएं ये तरीके

Lockdown के दौरान ऐसे होगा आपका अच्छा Time Pass, अपनाएं ये तरीके

- Advertisement -

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है। ऐसे में अधिकांश प्रदेशों को एहतियात के तौर पर लॉक डाउन कर दिया गया है। इसके पीछे का मकसद जल्द से जल्द कोरोना को खत्म करना है और ये तभी संभव है जब लोग एक-दूसरे से मिलना जुलना बंद करेंगे। केंद्र व राज्य सरकार की लगातार अपील के बाद भी लोग अपने घरों से निकल रहे थे इसलिए सरकार को ये फैसला लेना पड़ा। लेकिन घबराने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि ये आपके हित में ही है और इस लॉकडाउन का आप बेहतर इस्तेमाल भी कर सकते हैं। हम आपको कुछ उपाय बता रहे हैं जिसे अपनाकर आप न सिर्फ घर में रहकर बोर होने से बचेंगे बल्कि एंन्जॉय भी करेंगे। हां लेकिन सावधानियां वही बरतते रहें, हाथों को बार-बार धोएं।


कई सारे सेलिब्रेटीज की लगातार वीडियोज भी आ रही है कि वो कैसे घरों में अपना टाइम बिता रहे हैं। सलमान खान पेटिंग बनाते दिखे तो कैटरीना पियानो बजाते नजर आईं। जैकलीन योगा करके अपनी सेहत और इम्युनिटी दोनों को बढ़ा रही हैं। हमें भी इनसे कुछ सीखना चाहिए और इस वक्त का सही इस्तेमाल करना चाहिए। बस कुछ भी हो जाए घर से नहीं निकलना है क्योंकि कोरोना से लड़ने का यही एक तरीका है।

पौधे लगाएं
आप चाहें तो अपने खाली वक्त में घरों को भरा-भरा बना सकते हैं। ये सही मौका है अपने गार्डन को वक्त देने का और अगर नहीं है तो छोटा सा किचन गार्डन बनाने का भी। इसके लिए आप घर की पुरानी बोतल व डिब्बों का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर पौधे नहीं हैं तो भी कोई बात नहीं आपके पास बीज तो होंगे ही। घर में फल और सब्जियां भी होंगी और कुछ नहीं तो टमाटर तो होंगे ही। उनको टुकड़े में काटिए और किसी गमले में लगा दीजिए। टमाटर के साथ आप पपीता या जो भी बीज लगाना चाहते हैं उसे भी पानी में धोकर किसी कॉटन के कपड़े या टिश्यू पेपर में लपेट कर रख दें। हां इसे बराबर नमी देते रहें और दो-तीन बाद इसे गमले में लगा दें।

परिवार के साथ वक्त बिताएं
ऑफिस, कॉलेज और बाकी कामों के बीच वक्त ही कहां रहता कि परिवार के साथ बैठा जाए और वीकेंड वाले दिन तो इतने काम इकट्ठा हो जाते हैं कि और राहत नहीं मिलती। अब जब वक्त मिला है तो इसका फायदा उठाइए। परिवार के साथ बैठिए, पुरानी यादें ताजा कीजिए कोई एल्बम पलटिए जिससे पुरानी यादें एक फिर ताजा हो जाएं। अच्छा होगा कि फोन से भी थोड़ी दूरी बना लीजिए जब तक बहुत जरूरी न हो। इंडोर गेम्स खेलिए, कहानी-किस्से कहिए देखिएगा ये दिन आपके यादगार दिनों में शामिल हो जाएगा।

मेडिटेशन देगा सुकून
मेडिटेशन तो हमेशा से ही फायेदमंद रहा है। अब भागदौड़ के बीच अगर टाइम न मिलता रहा हो तो अब इसे अपनी आदत में डाल लें। रोज सुबह उठकर और शाम में आंखें बंद करके सीधे बैठ जाएं और गहरी सांस लें। इससे आपमें पॉजिटिव एनर्जी भी आएगी और दिमाग को भी सुकून मिलेगा। धीरे-धीरे ये आपकी आदत में शामिल हो जाएगा तो आपको खुद ही अच्छा लगने लगेगा। मेडिटेशन में कोई उपाय न सूझे तो कमरे में जाकर सो जाएं बॉडी की बैटरी फिर से रिचार्ज हो जाएगी और मेडिटेशन का एक छोटा सा कोर्स भी हो जाएगा।

काम निपटाएं जो अभी तक न हुए हों
कोरोना से लड़ाई के चलते लॉक डाउन में आप अपने सभी वो पुराने काम याद कर लीजिए जो अभी तक छुट्टी न मिलने की वजह से नहीं हो पा रहे थे। उन्हें सोचकर एक लिस्ट बना लीजिए और एक-एककर निपटा डालिए। जैसे- अपनी कपड़ों की अलमारी सेट कीजिए, बुक रैक को व्यवस्थित कर लीजिए। आप चाहें तो घर के काम में भी मदद कर सकते हैं जैसे कुकिंग या साफ-सफाई।

शौक पूरा करने का सही वक्त
हर किसी को किसी न किसी चीज का शौक होता है किसी को पेटिंग करना पसंद है तो किसी को क्राफ्टिंग। ये आपके पास सही मौका है कि अपने सभी शौक पूरे कर लें बस वो घर से बाहर न हों। ड्राइंग कीजिए, कुछ क्रिएटिव सोचकर नया क्राफ्ट बनाइए, या फिर वो किताबें जो अब तक सेल्फ में पड़े-पड़े धूल खा रही थीं उनको पढ़िए। समय ऐसे बीतेगा कि पता भी नहीं चलेगा और आप कुछ नया सीखेंगे भी।

काम निपटाएं जो अभी तक न हुए हों
कोरोना से लड़ाई के चलते लॉक डाउन में आप अपने सभी वो पुराने काम याद कर लीजिए जो अभी तक छुट्टी न मिलने की वजह से नहीं हो पा रहे थे। उन्हें सोचकर एक लिस्ट बना लीजिए और एक-एककर निपटा डालिए। जैसे- अपनी कपड़ों की अलमारी सेट कीजिए, बुक रैक को व्यवस्थित कर लीजिए। आप चाहें तो घर के काम में भी मदद कर सकते हैं जैसे कुकिंग या साफ-सफाई।

शौक पूरा करने का सही वक्त
हर किसी को किसी न किसी चीज का शौक होता है किसी को पेटिंग करना पसंद है तो किसी को क्राफ्टिंग। ये आपके पास सही मौका है कि अपने सभी शौक पूरे कर लें बस वो घर से बाहर न हों। ड्राइंग कीजिए, कुछ क्रिएटिव सोचकर नया क्राफ्ट बनाइए, या फिर वो किताबें जो अब तक सेल्फ में पड़े-पड़े धूल खा रही थीं उनको पढ़िए। समय ऐसे बीतेगा कि पता भी नहीं चलेगा और आप कुछ नया सीखेंगे भी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है