Covid-19 Update

2,16,430
मामले (हिमाचल)
2,11,215
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,380,438
मामले (भारत)
227,512,079
मामले (दुनिया)

तिब्बती पठार को लेकर अब वैश्विक ध्यान यूं होगा आकर्षित- ये रहा कारण

हिंदू कुश हिमालय में ग्लेशियर दो-तिहाई घट जाएंगे

तिब्बती पठार को लेकर अब वैश्विक ध्यान यूं होगा आकर्षित- ये रहा कारण

- Advertisement -

सिकुड़ते ग्लेशियरों पर संयुक्त राष्ट्र की ऐतिहासिक जलवायु रिपोर्ट का समर्थन करते हुए केंद्रीय तिब्बती प्रशासन (Central Tibetan Administration) के जलवायु शोधकर्ताओं ने मंगलवार को उम्मीद जताई कि उनकी मातृभूमि तिब्बती पठार को लेकर अब वैश्विक ध्यान आकर्षित होगा। इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) की रिपोर्ट को एक वेक-अप कॉल को देखते हुए, सीटीए विश्व नेताओं से तिब्बत को संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन शिखर सम्मेलन के वैश्विक जलवायु परिवर्तन एजेंडे में शामिल करने का आग्रह करता है, जिसका नाम सीओपी 26 है, जिसे यूके नवंबर में ग्लासगो में आयोजित कर रहा है।

यह भी पढ़ें:  प्वाइंट ऑफ ऑर्डर के मुद्दे पर सदन हंगामा, मुकेश अग्निहोत्री व सुरेश भारद्वाज में नोक-झोंक

 

तिब्बती पठार में 46,000 से अधिक हिमनद हैं और वे एशिया की प्रमुख नदी प्रणालियों – सिंधु, सतलुज, ब्रह्मपुत्र, इरावदी, साल्विन, मेकांग, यांग्त्जी और पीली नदियों को जन्म देते हैं जो 240 मिलियन लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण जल आपूर्ति प्रदान करते हैं। इसमें 86 मिलियन भारतीय शामिल हैं। 64 देशों के 234 वैज्ञानिकों द्वारा संकलित जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र के अंतर सरकारी पैनल की रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि पश्चिमी हिमालय के लाहौल-स्पीति क्षेत्र में ग्लेशियर 21 वीं सदी की शुरूआत के बाद से बड़े पैमाने पर समाप्त हो रहे हैं, और यदि उत्सर्जन में कमी नहीं होती है तो हिंदू कुश हिमालय में ग्लेशियर दो-तिहाई घट जाएंगे।

यह भी पढ़ें:  बर्नार्ड अरनॉल्ट, जेफ बेजोस को पीछे छोड़कर दुनिया का सबसे अमीर व्यक्ति बने

 

ऐतिहासिक रिपोर्ट में पाया गया है कि मानव प्रभाव 1990 के दशक से ग्लेशियरों के वैश्विक रुप से घटने के मुख्य चालक है और दुनिया के लगभग सभी ग्लेशियर 1950 के दशक से अभूतपूर्व तरीके से पीछे हट गए हैं।इस उत्तरी भारतीय पहाड़ी शहर में स्थित सीटीए प्रशासन द्वारा किए गए अध्ययन, तिब्बती पठार के वैश्विक पारिस्थितिक महत्व को पहचानने और पठार पर जलवायु परिवर्तन अनुसंधान को मजबूत करने के लिए संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑन क्लाइमेट चेंज (यूएनएफसीसीसी) की मांग करते हैं। सरकार को तिब्बत के पारंपरिक ज्ञान और जीवन के तरीके का सम्मान करना चाहिए और दक्षिण-पश्चिमी चीन में तिब्बती पठार में शहरीकरण और पर्यटन को विनियमित करना चाहिए। साथ ही अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को जलवायु परिवर्तन पर सभी चर्चाओं में तिब्बत की केंद्रीयता को सामने लाने के लिए वैश्विक जलवायु कार्रवाई को आगे बढ़ाने की आवश्यकता है। सीटीए के अनुसार, तिब्बती पठार में हर दशक में तापमान में लगभग 0.3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि देखी गई है।

एक शोधकर्ता ने आईएएनएस को बताया, इसका मतलब है कि पिछले 50 वर्षों में तापमान में 1.3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि हुई है, जो वैश्विक औसत से तीन गुना अधिक है। तिब्बती आध्यात्मिक नेता और नोबेल पुरस्कार विजेता दलाई लामा कहते रहे हैं कि उनकी मातृभूमि तिब्बत वर्तमान में जलवायु परिवर्तन की चपेट में है।वह इस बात पर जोर देते रहे हैं कि जलवायु परिवर्तन केवल एक या दो देशों की चिंता नहीं है। यह एक ऐसा मुद्दा है जो इस पृथ्वी पर सभी मानवता और प्रत्येक जीवित प्राणी को प्रभावित करता है और इसके आधार पर वैश्विक जिम्मेदारी की एक बड़ी भावना की वास्तविक आवश्यकता है हिंदू कुश हिमालय के संदर्भ में, रिपोर्ट में कहा गया है कि हिमालय जैसे पर्वतीय हिमनदों को आकलन में शामिल किया गया है और मानव प्रभाव 20वीं शताब्दी के बाद से हिमनदों के पीछे हटने के लिए जिम्मेदार है। रिपोर्ट के अनुसार, “भारत जैसे देश के लिए, हीट वेव में कुछ वृद्धि एरोसोल उत्सर्जन के कारण होती है और इसे कम करना वायु गुणवत्ता के लिए महत्वपूर्ण है।”

–आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है