Expand

कोमल पांव का यूं रखें ख्याल

कोमल पांव का यूं रखें ख्याल

- Advertisement -

दिनभर की भागदौड़ के बाद अकसर पैरों में दर्द महसूस होने लगता है, जिससे राहत के लिए आप हमेशा पेनकिलर दवा लेते हैं। पेनकिलर किडनी तक पर असर डालती है। पैरों में दर्द से राहत के लिए कुछ उपचार ऐसे हैं जिनके कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होते। पैरों में दर्द के कई कारण हो सकते हैं। जैसे उम्र, असहज जूते पहनना, बहुत ज्यादा चलना या लंबे समय तक पैरों पर खड़े रहना, आहार में मिनरल की कमी और डायबिटीज हॉट एंड कोल्ड वॉटर थेरेपी पैर में दर्द का कारगर इलाज है।

foot8हॉट वॉटर ट्रीटमेंट : हॉट वॉटर ट्रीटमेंट खून के संचार को बढ़ता है तथा कोल्ड वॉटर ट्रीटमेंट सूजन को कम करने में मदद करता है। एक बाल्टी में ठंडा पानी तथा दूसरी में सहने योग्य गर्म पानी लें। अपने पैरों को तीन मिनट तक गर्म पानी की बाल्टी में डालें। इसके बाद तीन मिनट तक पानी को बाहर निकल कर रखें तथा इसके बाद करीब 10 सेकेंड के लिए ठंडे पानी की बाल्टी में पैरों को डालें। इस प्रक्रिया को दो-तीन बार दोहराएं। ध्यान दें पैरों को पहले गर्म पानी में डालना है, फिर ठंडे पानी में। दोनों बाल्टियों में पैरों को डालने के बीच 3 मिनट का अंतराल रखना है।

सिरका : यह सूजन, मोच या ऐंठन के कारण होने वाले दर्द के लिए बेहद कारगर इलाज है। गर्म पानी की एक बाल्टी में दो बड़े चम्माच सिरका और एक छोटा चम्मच नमक या सेंधा नमक मिलाएं। इसमें पैरों को लगभग 20 मिनट के लिए डुबो कर रखें। आराम मिलेगा। गर्म पानी के टब में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर उसमें पैरों को रख लें। 10 से 15 मिनट तक पानी में पैरों को रखने के बाद निकाल लें। ड्राईनेस से बचाने के लिए पैरों पर माइश्चराइजर लगा सकते हैं।

आइस थेरेपी : यह भी दर्द और पैरों की सूजन को कम करने का एक प्रभावी तरीका है। एक छोटी सी प्लास्टिक की थैली में कुचले बर्फ के कुछ टुकड़े डालें और प्रभावित हिस्से पर धीरे-धीरे लगाएं। इससे सूजन को कम करने में भी मदद मिलेगी। ध्यान रखें कि आइस पैक का उपयोग एक समय में 10 मिनट से अधिक तक न करें, क्योंकि यह त्वचा और नसों को नुकसान पहुंचा सकता है।

foot-painलौंग का तेल : लौंग का तेल सिरदर्द, जोड़ों के दर्द, एथलीट फुट, नेल फंगस और पैरों के दर्द को दूर करने वाला एक अद्भुत तेल है। तुरंत राहत पाने के लिए लौंग के तेल का इस्तेमाल पैरों में धीरे-धीरे मालिश करने के लिए करें। मसाज रक्त के प्रवाह को उत्तेजित करता है और मांसपेशियों को आराम देता है। पैरों में दर्द की समस्या से जल्द राहत पाने के लिए एक दिन में कई बार मालिश करें।

सरसों के बीज : इसका इस्तेमाल शरीर से विषाक्त पानी निकालने, रक्त परिसंचरण में सुधार करने और सूजन को कम करके पैर में दर्द के उपचार के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। कुछ सरसों के बीज पीस लें और फिर इन्हें गर्म पानी की एक बाल्टी में मिलाएं। अपने पैरों को इस पानी में 10 से 15 मिनट के लिए डालें।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है