×

Sasikala को झटका, सरकार बनाने के लिए नहीं बुलाएंगे Governor

Sasikala को झटका, सरकार बनाने के लिए नहीं बुलाएंगे Governor

- Advertisement -

चेन्नई। तमिलनाडु में शशिकला को तगड़ा झटका लगा है। सरकार बनाने का दावा पेश करने वाली शशिकला को राज्यपाल सी. विद्यासागर राव सरकार बनाने का न्योता नहीं देंगे। सूत्रों के मुताबिक शशिकला के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला लंबित होने की वजह से राज्यपाल ने उन्हें सरकार बनाने के लिए न बुलाने का फैसला किया है। माना जा रहा है कि भ्रष्टाचार के मामले को लेकर राज्यपाल इस नतीजे पर पहुंचे कि शशिकला को सरकार गठन के लिए न बुलाने में ही समझदारी है। उन्होंने गृहमंत्रालय को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। राज्यपाल के इस फैसले से शशिकला खेमे की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है जो सरकार बनाने के लिए शशिकला को न्योते का इंतजार कर रहा था। विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक राज्यपाल ने यह माना कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला लंबित होने से यह संदिग्ध है कि शशिकला को मुख्यमंत्री बनने के बाद 6 महीने के भीतर विधानसभा में निर्वाचित होने के लिए चुनाव लड़ने का मौका भी मिलेगा या नहीं। माना जा रहा है कि शशिकला के भ्रष्टाचार के मामले में सुप्रीम कोर्ट अगले हफ्ते अपना फैसला सुनाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने 7 जून 2016 को इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। सूत्रों के मुताबिक गृहमंत्रालय को भेजे गए अपने नोट में राज्यपाल विद्यासागर राव ने कहा है कि शशिकला विधायक नहीं हैं इसलिए संविधान के आर्टिकल 164 (1) के तहत उन्हें सरकार बनाने और बहुमत साबित करने के लिए नहीं कहा जा सकता।


पन्नीरसेल्वम अड़े, AIADMK को हाइजैक नहीं होने देंगे 

चेन्नई। तमिलनाडु में AIADMK में मचे अंदरूनी घमासान के बीच कार्यवाहक मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने एक बार फिर दोहराया है कि सब कुछ अच्छा होगा और आखिरकार धर्म की जीत होगी। उन्होंने कहा कि पार्टी को हाइजैक करने की कोशिशों को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा। शुक्रवार शाम को ओ पन्नीरसेल्वम के घर पर उनके समर्थक नेताओं की बैठक हुई। बैठक के बाद वरिष्ठ नेता ई  मधुसूदनन ने समर्थक कार्यकर्ताओं की भीड़ के बीच मीडिया को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि AIADMK की स्थापना परिवारवाद की राजनीति के खिलाफ हुई थी, लेकिन यह अब फैमिली पॉलिटिक्स में घुस चुकी है, लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे। मधुसूदनन ने कहा कि फैमिली पॉलिटिक्स के खिलाफ इस लड़ाई का नेतृत्व पन्नीरसेल्वम करेंगे। शशिकला पर हमला करते हुए पन्नीरसेल्वम ने कहा ने कहा कि पार्टी एक बरगद के पेड़ की तरह हो चुकी है, इसे कोई भी हाइजैक नहीं कर सकता। अगर ऐसा प्रयास किया भी गया तो हम उसे कामयाब नहीं होने देंगे। गौरतलब है कि एआईएडीएमके दो खेमों में बंट चुकी है। एक खेमे की अगवाई कार्यवाहक मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम कर रहे हैं तो दूसरे खेमे की अगवाई पार्टी महासचिव शशिकला कर रही हैं। पार्टी के दूसरे नंबर के नेता और अध्यक्ष मंडल प्रमुख ई. मधुसूदनन के पन्नीरसेल्वम के साथ आने के बाद शशिकला ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया है। हालांकि मधुसूदनन निष्कासन को अवैध बताते हुए दावा कर रहे हैं कि उन्होंने पहले ही शशिकला को पार्टी से निकाल दिया है और महासचिव के पद पर उनका चुनाव अमान्य है। शशिकला के सरकार बनाने का दावा पेश करने के बाद सबकी निगाहें राज्यपाल विद्यासागर राव पर टिकी हैं। शुक्रवार को डीएमके नेता स्टालिन ने भी राज्यपाल से मुलाकात की।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है