Covid-19 Update

41,229
मामले (हिमाचल)
32,309
मरीज ठीक हुए
656
मौत
9,499,710
मामले (भारत)
64,194,692
मामले (दुनिया)

सेवा विस्तार खत्म, 1800 एसएमसी शिक्षकों को सताने लगा भविष्य का खतरा

सेवा विस्तार खत्म, 1800 एसएमसी शिक्षकों को सताने लगा भविष्य का खतरा

- Advertisement -

शिमला। नए शैक्षणिक सत्र के लिए सेवा विस्तार नहीं मिलने से एसएमसी शिक्षकों (SMC teachers) को भविष्य का खतरा सताने लगा है। स्कूल मैनेजमेंट कमेटी के तहत प्रदेश के शीतकालीन स्कूलों में नियुक्त 1800 शिक्षकों का सेवा विस्तार (Service extension) समाप्त हो गया है। इन शिक्षकों से 31 दिसंबर तक सेवाएं लेने का सरकार से करार हुआ था। एसएमसी से लगे शिक्षक बीते आठ साल से नीति बनाने की मांग कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें:- राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के सफल संचालन के लिए प्रदेश को प्रथम पुरस्कार

एसएमसी पीरियड बेसिस संघ के अध्यक्ष मनोज रौंगटा ने बताया है कि 1800 शिक्षकों में 1000 सीएंडवी, 650 टीजीटी और 150 जेबीटी का सेवा विस्तार समाप्त हो गया है। साल 2012 में बीजेपी सरकार ने 257 अध्यापकों की नियुक्ति एसएमसी से की थीं। उसके बाद कांग्रेस के कार्यकाल में 2400 एसएमसी अध्यापक लगे। सभी अध्यापक टेट की योग्यता के साथ आरटीई की योग्यता को पूर्ण करते हैं। एसएमसी अध्यापक आठ साल से बिना अवकाश के प्रदेश के दुर्गम क्षेत्रों में सेवाएं दे रहे हैं।

एसएमसी अध्यापकों पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में कोई भी मामला विचाराधीन न होने के चलते सरकार नीति बना सकती है। अध्यक्ष मनोज रौंगटा ने कहा कि जब सरकार उर्दू और पंजाबी तथा तकनीकी संस्थान में कार्यरत पीरियड बेसिस अध्यापकों को अनुबंध नीति में ला सकती है तो एसएमसी अध्यापकों के साथ भेदभाव क्यों किया जा रहा है। संघ ने सीएम जयराम ठाकुर और शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज से एसएमसी अध्यापकों के लिए जल्द नीति बनाने की मांग की है।

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है