×

#Corona काल में मुंह मीठा करवाकर पर्यटकों का स्वागत, शिमला में हुआ कुछ ऐसा

पर्यटन विभाग ने वर्ल्ड टूरिज्म डे पर ग्रामीण क्षेत्र की रखी थी थीम

#Corona काल में मुंह मीठा करवाकर पर्यटकों का स्वागत, शिमला में हुआ कुछ ऐसा

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल में विश्व पर्यटन दिवस (World Tourism Day) पर पर्यटन विभाग द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस दौरान राजधानी शिमला (Shimla) के स्केंडल प्वाइंट पर स्थित पर्यटन सूचना केंद्र में पर्यटकों का स्वागत (Welcome) किया गया और उन्हें मिठाई खिलाई गई। ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटकों को ग्रामीण पर्यटक स्थलों (Rural Tourist Places) की जानकारी भी दी गई और पर्यटकों को ग्रामीण क्षेत्रों में जाने का आग्रह किया गया। बता दें कि इस बार पर्यटन विभाग ने वर्ल्ड टूरिज्म डे पर ग्रामीण क्षेत्र की थीम रखी है। जिससे की ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा दिया जा सके।


यह भी पढ़ें: #Himachal में अब साहसिक पर्यटन गतिविधियां होंगी सुरक्षित, जाने क्या है सरकार का प्लान

 

पर्यटन सूचना केंद्र के अधिकारी रामपाल ने बताया कि आज विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर पर्यटकों का मिठाई खिला कर शिमला (Shimla) में स्वागत किया जा रहा है। साथ ही उन्हें ग्रामीण पर्यटन स्थानों के बारे में जानकारी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल के बाद पर्यटकों का प्रदेश में आना शुरू हो गया है। काफी तादात में पर्यटक फोन पर भी जानकारी ले रहे हैं। ऐसे पर्यटकों को हिमाचल आने का न्यौता दिया जा है। उन्हें बताया जा रहा है कि हिमाचल बिल्कुल सेफ है और खास कर पर्यटन निगम के होटलों में पूरी एहतियात बरती जा रही है।

इतिहास में पहली बार हिमाचल में समर सीजन शून्य रहा

कोरोना (Corona) महामारी के चलते हिमाचल में ऐसा पहली बार हुआ है जब समर सीजन पूरी तरह सुनसान रहा है। बीते साल मार्च से मई तक प्रदेश में करीब 50 लाख देसी विदेशी सैलानी (Tourist) हिमाचल (Himachal) आए थे। हिमाचल में अधिकारिक तौर पर 15 अप्रैल से समर सीजन शुरू होता है। 20 मार्च के बाद सैलानियों की आमद शुरू हो जाती है। अप्रैल और मई में समर सीजन चरम पर रहता है। जोकि इस बार पूरी तरह से शुन्य रहा। कोरोना के चलते प्रदेश में होटल, होम स्टे सहित अन्य पर्यटन गतिविधियां पिछले छह महीने तक बंद रहीं, जिससे प्रदेश को करीब 55 हजार करोड़ रुपये का आर्थिक नुकसान हुआ है। हालांकि  अनलॉक फोर में मिली छूट के बाद प्रदेश में सैलानियों के आने का सिलसिला शुरू हुआ है। जिससे पर्यटक व्यवसाय को कुछ उम्मीद बंधी है। अब पर्यटन कारोबारियों की नजरें विंटर सीजन पर टिकी हैं।

 

 an example image

 

2019 में 1.72 करोड़ पर्यटक हिमाचल पहुंचे

2019 में सैलानियों की संख्या 1.72 करोड़ रही। यह संख्या 2018 के मुकाबले 4.63 फीसदी अधिक रही। बीते साल सरकार ने प्रदेश में पर्यटन गतिविधियां (Tourist activities) बढ़ाने को कई योजनाएं शुरू कीं। पर्यटन नीति (Tourism Policy) भी नई बनाई है। इनका असर इस साल दिखना था, लेकिन कोरोना के चलते सभी योजनाएं धरी रह गई हैं।

कोरोनाकाल में पर्यटन विकास निगम को हुआ 39.97 करोड़ का नुकसान

कोविड-19 के कारण पर्यटन विकास निगम को बीते पांच महीने में 39.97 करोड़ का नुकसान हुआ है। प्रदेश में आने वाले सैलानियों की संख्या में भारी कमी आई है। सरकार पर्यटन कारोबार को हुए नुकसान का आकलन करने में जुटी है। दुर्गा पूजा के दौरान सैलानियों के आने की संभावना है। सभी होटल कारोबारी सरकार की ओर से तय एसओपी के तहत कारोबार कर रहे हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 an example image

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है